उत्तर प्रदेश में 70 फीसदी गिरी आम की पैदावार, लखनवी, दशहरी ज्यादा प्रभावित 

मुंबई- उत्तर प्रदेश के आम शौकीनों को जबरदस्त झटका लग सकता है। इस बार यहां आम की पैदावार में 70 फीसदी की गिरावट आई है। इसमें लखनवी और दशहरी किस्म पर ज्यादा असर हुआ है। फलों का राजा कहे जाने वाले आम की फसल इस बार खराब मौसम की वजह से प्रभावित हुई है।  

फल कारोबारियों का कहना है कि कम उत्पादन की वजह से आने वाले समय में इसकी कीमतों में भी इजाफा हो सकता है। यहां सालाना 35 से 45 लाख मैट्रिक टन आम का उत्पादन होता है। लेकिन इस बार केवल 10-12 लाख मैट्रिक टन के ही पैदावार की उम्मीद जताई जा रही है। 

मैंगो ग्रोवर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया के अध्यक्ष इंसराम अली ने बताया कि आम के अच्छे उत्पादन के लिए अधिकतम 30-35 डिग्री सेल्सियस तापमान की जरूरत होती है। पर इस बार फरवरी और मार्च में ही 40 डिग्री से ज्यादा तापमान हो गया। इस वजह से पैदावार पर असर पड़ा। 

अली ने बताया कि लखनऊ का मलीहाबाद आम के पैदावार का बड़ा केंद्र है। यहां का दशहरी आम पूरी दुनिया में अपने स्वाद के लिए जाना जाता है। मलीहाबाद के आम उत्पादक मोहम्मद नसीन ने बताया कि उन्होंने अपने पूरे जीवन में इस तरह का खराब मौसम आम के लिए कभी नहीं देखा। उत्तर प्रदेश के हजारों आम उत्पादक इस समय फसलों के खराब होने से परेशान हैं। 

मौसम विभाग के आंकड़ों के अनुसार, 122 वर्षों में पहली बार मार्च में इतनी ज्यादा गरमी पड़ी है। अप्रैल ने पिछले 50 साल की गरमी का रिकॉर्ड तोड़ा है। अली ने कहा कि उत्तर प्रदेश के आम का निर्यात विश्व के कई देशों में किया जाता है। इसमें सउदी अरबिया, अमेरिका, यूके और जर्मनी प्रमुख हैं। 

कारोबारियों का कहना है कि इस साल घरेलू मांग को ही पूरा करने में दिक्कत आ सकती है। निर्यातक कोरोना के कारण पिछले दो साल से विदेशों में आम नहीं भेज पाए हैं और इस बार उत्पादन की कमी की वजह से भी उनका कारोबार चौपट होने की आशंका है। उत्तर प्रदेश के लखनऊ, प्रतापगढ़, हरदोई, सहारनपुर, बाराबंकी और सीतापुर को आम का बेल्ट माना जाता है। 

निर्यातकों को उम्मीद थी कि दो साल बाद उनको इस साल अच्छा फायदा होगा। लेकिन फसलों के प्रभावित होने से उनकी उम्मीदें खत्म हो गई हैं। भारत दुनिया में आम का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। यह वैश्विक उत्पादन में 50 फीसदी हिस्सा रखता है। भारत में प्रमुख रूप से आंध्र प्रदेश, तमिलमाडु, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, बिहार और गुजरात में आम की पैदाइश होती है। पर विशेष मांग लखनऊ के दशहरी की होती है।   

Leave a Reply

Your email address will not be published.