आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लार्ज एंड मिडकैप फंड: एक आकर्षक लार्ज और मिडकैप निवेश

अक्सर जब निवेश की बात आती है, तो निवेशक बाजार पूंजीकरण (market capitalization) आधारित विकल्पों को देखते हैं। हालांकि इस प्रक्रिया में जो चीज छूट जाती है वह है कॉम्बिनेशन डील जो लार्ज और मिडकैप कैटेगरी के रूप में उपलब्ध है। यहां पोर्टफोलियो का कम से कम 35% लार्ज कैप कंपनियों और मिड कैप कंपनियों में से प्रत्येक में निवेश किया जाएगा। वास्तव में, इस योजना के लिए निवेश में बाजार पूंजीकरण के मामले में टॉप 250 लिस्टेड कंपनियां हैं। तो इसकी विशेषता यह है कि मिड-कैप के लिए योजना का एक्सपोजर लॉंग टर्म में ज़्यादा कैपिटल अप्रीसिएशन का अवसर प्रदान करता है जबकि बड़े कैपेक्स के एक्सपोजर का उद्देश्य कम अस्थिर उचित रिटर्न प्रदान करना है।

यह कटेगरी मुख्य रूप से सेबी योजना के पुन: वर्गीकरण (re-categorization) के अभ्यास के बाद अस्तित्व में आई। हालांकि इस श्रेणी में कई ऑफर्स हैं, पर एक लगातार दमदार प्रदर्शन करने वाला रहा है आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लार्ज एंड मिडकैप फंड। अलग-अलग समय-सीमा में यह फंड बेंचमार्क और इसके समकक्षों, दोनों को मात देने में कामयाब रहा है। उदाहरण के लिए: पिछले एक साल में इस फंड ने अपने बेंचमार्क निफ्टी लार्ज मिड कैप 250 टीआरआई द्वारा दिए गए 7.84% रिटर्न की तुलना में 14.93% रिटर्न दिया। इसी तरह का पैटर्न दो और तीन वर्षों में भी दिखाई दे रहा है, जिसमें फंड ने 41.72% और 15.21% दिया है। (24 मई 2022 तक के डेटा के अनुसार)। अगर एक निवेशक ने पिछले एक दशक में हर महीने (एसआईपी) 10,000 रुपये का निवेश किया होता, यानी 12 लाख रुपये का निवेशआज 26,13,450 रुपये का होगा।

इस तरह के लगातार बेहतर प्रदर्शन का कारण काफी हद तक स्मार्ट पोर्टफोलियो के निर्माण के विकल्पों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। 30 अप्रैल 2022 तक पोर्टफोलियो के 57% में लार्जकैप नाम शामिल हैं। इसके बाद मिडकैप में 33% और स्मॉलकैप में 4% शामिल हैं। आमतौर पर पोर्टफोलियो का 40-55% लार्जकैप को, 35-45% मिडकैप को आवंटित किया जाता है और शेष 10 से 15% स्मॉल कैप में। जब वैल्यूएशन आकर्षक हो जाता है तो स्मॉलकैप में निवेश काफी हद तक टैक्टिकल टाइप का होता है। साथ ही मिडकैप नाम में अस्थायी अधिकतम निवेश 3.5% पर कैप किया हुआ है।

पोर्टफोलियो को बड़े पैमाने पर शेयरों और सेक्टर्स में निवेश किया जाता है जो टॉप-डाउन और बॉटम-अप अप्रोच के कॉम्बिनेशन से चुने गए आर्थिक सुधार से लाभान्वित हो सकते हैं। इसलिए, पोर्टफोलियो में बड़े पैमाने पर घरेलू और ग्लोबल स्ट्रक्चरल और साईक्लिकल रिकवरी शामिल हैं। नतीजतन बैंक, टेलीकॉम, सॉफ्टवेयर और फाइनेंस पोर्टफोलियो का लगभग 50% हिस्सा बनाते हैं। कुछ शेयरों ने पोर्टफोलियो को बेहतर बनाने में काफी मदद की है, जिसमें भारती एयरटेल, एनटीपीसी, फेडरल बैंक और आईटी हैवीवेट जैसे नाम शामिल हैं।

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लार्ज एंड मिडकैप फंड के फंड मैनेजर पराग ठक्कर के अनुसार, वह निवेश के फैसले लेते समय एक सिम्पल नेगटिव चेकलिस्ट का पालन करते हैं। वह उन शेयरों से दूर रहते हैं जिनमें कमजोर कैश फ़्लो, नाजुक व्यापार मॉडल, चुनौतीपूर्ण बैलेंस शीट, संदेहास्पद मैनेजमेंट हो और वे किसी भी कंपनी के लिए कभी भी अधिक भुगतान (overpayment) नहीं करते हैं। उन्होंने जोर देकर कहा कि उनका उद्देश्य उचित मूल्य पर क्वालिटी की तलाश करना है।

अंत में, यदि आप एक निवेशक हैं जो लार्ज और मिडकैप शेयरों में पैसा लगाना चाहते हैं, तो आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल लार्ज एंड मिडकैप फंड एक संभावित वन-स्टॉप समाधान सोल्यूशंस सकता है। जैसा कि किसी भी अन्य इक्विटी निवेश के मामले में होता है, एसआईपी के माध्यम से निवेश के लिए एक कई हिस्सों में (staggered) निवेश करने का अप्रोच निवेश के लिए सबसे सटीक अप्रोच है। एक निवेशक के रूप में यदि आप इक्विटी निवेश का अधिकतम लाभ उठाना चाहते हैं, तो याद रखें कि पूरे मार्केट साइकल में निवेश किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.