बैंक ऑफ इंडिया को 606 करोड़ का मुनाफा, ग्रास एनपीए 9.98 फीसदी रहा 

मुंबई- बैंक ऑफ इंडिया को चौथी तिमाही में 606 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है। एक साल पहले इसी अवधि में 250 करोड़ रुपये की तुलना में यह 142 फीसदी ज्यादा है। फायदे में बढ़त शुद्ध ब्याज आय में सुधार से हुआ है। पूरे साल में इसका फायदा 57.60 फीसदी बढ़कर 3,405 करोड़ रुपये रहा जो एक साल पहले 2,160 करोड़ रुपये था। 

बैंक ने बताया कि शुद्ध ब्याज की आय 35.77 फीसदी बढ़कर 3,986 करोड़ रुपये तिमाही में रही जबकि एक साल पहले यह इसी अवधि में 2,936 करोड़ रुपये थी। शुद्ध ब्याज मार्जिन 2.01 फीसदी से सुधरकर 2.58 फीसदी हो गई। ग्रॉस एनपीए 9.98 फीसदी रहा जो एक साल पहले 13.77 फीसदी पर था। रुपये में यह 45,605 करोड़ रहा जो कि एक साल पहले इसी समय में 56,535 करोड़ रुपये था।  

शुद्ध एनपीए इसी दौरान 3.35 से घटकर 2.34 फीसदी पर रहा। बैंक के एमडी एके दास ने कहा कि बैंक फ्यूचर समूह में कर्ज 1,045 करोड़ रुपये है इसका पूरा प्रावधान बैंक ने कर दिया है। श्रेई समूह को बैंक ने 963 करोड़ रुपये का कर्ज दिया था और इसका भी आधा प्रावधान किया है। बैंक ने बकाया कि नकद रिकवरी तिमाही में 1,329 करोड़ रुपये रही जो पूरे साल में 6,707 करोड़ रुपये थी।  

इसने इस चालू वित्तवर्ष में 12,000 करोड़ रुपये की रिकवरी का लक्ष्य रखा है। घरेलू स्तर पर उधारी 8.73 फीसदी बढ़कर 3,93,991 करोड़ रुपये रही जबकि कुल विदेशी बाजारों में 31.09 फीसदी बढ़कर 63,023 करोड़ रुपये उधारी रही। रैम यानी रिटेल, एग्री और एमएसएमई में कुल उधारी में 15.70 फीसदी की तेजी आई और यह 2,16,567 करोड़ रुपये रही। कुल उधारी में रैम का हिस्सा 54.97 फीसदी है।  

इस चालू वित्तवर्ष में इसने उधारी में 10-12 फीसदी की तेजी का लक्ष्य रखा है। पिछले साल इसने कॉरपोरेट के लिए 70,000 करोड़ रुपये की मंजूरी दी थी, पर कंपनियों ने केवल 29,000 करोड़ रुपये की उधारी ली। इस साल बैंक ढाई हजार करोड़ रुपये जुटा सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.