सलिल पारेख को इन्फोसिस के एमडी के रूप में 5 साल और मिले

मुंबई- भारत की दूसरी सबसे बड़ी सॉफ्टवेयर फर्म इंफोसिस ने रविवार को कहा है कि उसके बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने 1 जुलाई 2022 से 31 जुलाई 2027 तक कंपनी ने चीफ एग्जीक्यूटिव ऑफिसर (CEO) और मैनेजिंग डायरेक्टर (MD) के रूप में सलिल पारेख को फिर से नियुक्त किया है। 

बता दें कि सलिल पारेख कंपनी में साल 2018 से बतौर CEO और MD काम कर रहे हैं। पिछले 4 साल से वो कंपनी का नेतृतव कर रहे हैं। इससे पहले पारेख ने कैपजेमिनी में ग्रुप एग्जीक्यूटिव बोर्ड के सदस्य थे। यहां उन्होंने 25 साल तक कई पदों पर काम किया। पारेख के पास आईटी सेक्टर में काम करने का करीब 30 साल से अधिक का अनुभव है। 

इसके अलावा कंपनी के बोर्ड ने कंपनी के मैनेजमेंट टीम के टॉप 6 लोगों को कंपनी की ESOP के तहत 1,04,000 शेयर मंजूर किए हैं। इसके अलावा 88 दूसरे सीनियर एग्जीक्यूटिव्स को भी एम्प्लॉई स्टॉक ऑनरशिप (ESOP) के तहत 3,75,760 शेयरों को जारी करने की मंजूरी दी है। कंपनी ने यह कदम अपने काबिल कर्मचारियों को कंपनी में रोके रहने की कोशिश के तहत उठाया है।   

इन्फोसिस में सबसे लंबे समय तक एमडी नारायण मूर्ति (1981 से मार्च 2002) रहे। उसके बाद 2002 से 2007 तक नंदन निलेकणी, 2007 से 2011 तक के जी कृष्णन, 2011 से 2014 तक एसडी शिबूलाल, 2014 से 2017 तक विशाल सिक्का और 2017 से 2018 तक यू बी प्रवीण राव रहे। सलिल पारेश 2 जनवरी 2018 से इस पद पर हैं।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.