उत्तर प्रदेश और हरियाणा में भी इंद्रप्रस्थ गैस शुरू करेगी कारोबार  

मुंबई- इंद्रप्रस्थ गैस ने कहा है कि वह पांच वर्षों में सीएनजी स्टेशन और पाइपलाइन के विस्तार पर 8,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। यह उत्तरप्रदेश, राजस्थान, हरियाणा में भी कारोबार शुरू करना चाहती है। हाल में इसने इन राज्यों के लिए लाइसेंस जीता है।  

कंपनी के सीईओ संजय कुमार ने बताया कि इंद्रप्रस्थ का ज्यादातर कारोबार एनसीआर और आस-पास इलाके में है। कंपनी सात नए भौगोलिक क्षेत्रों में विस्तार पर 6,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी। कंपनी ने कहा कि 8,000 करोड़ में से सात नए भौगोलिक क्षेत्रों में विस्तार पर 6,000 करोड़ रुपये खर्च करेगी। जबकि बाकी 2000 करोड़ रुपये जिन इलाकों में यह कारोबार करती है, उनमें खर्च करेगी।  

इंद्रप्रस्थ गैस देश की सबसे बड़ी सीएनजी रिटेलर है और यह तेजी से विस्तार कर रही है। कंपनी के पास सीएनजी और पीएनजी के लिए चार राज्यों में लाइसेंस है। कंपनी 50 बैटरी के अदला बदली वाले स्टेशन को शुरू करने की योजना बना रही है जो इलेक्ट्रिक गाड़ियों के लिए होगा। इसने अभी तक 2 स्टेशन स्थापित किया है। 

उन्होंने कहा कि शहरों में गैस का विस्तार सरकार की योजनाओं के आधार पर है और इससे प्रदूषण में कमी आएगी। चालू वित्त वर्ष के लिए इसने 24 फीसदी विकास की उ्म्मीद जताई है। कंपनी की योजना 1100 सीएनजी स्टेशन की है जो अभी 711 है। जबकि 27 लाख घरों में पीएनजी के पहुंचाने का लक्ष्य रखी है जो अभी 20 लाख है। पिछले वित्तवर्ष में इसने 167 सीएनजी स्टेशन स्थापित किया था और इस साल में 150 सीएनजी स्टेशन स्थापित करने का लक्ष्य है। इसमें 12 दिल्ली में और 6 रिंग रोड पर होंगे।     

Leave a Reply

Your email address will not be published.