मई में शेयर बाजार के निवेशकों को 18 लाख करोड़ का घाटा हुआ  

मुंबई- शेयर बाजार में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। कल भी सेंसेक्स 1400 अंक से ज्यादा टूटा। निवेशकों को 5.5 लाख करोड़ का झटका लगा है। मई महीने में उनके करीब 18 लाख करोड़ रुपये बाजार में डूब चुके हैं।  

दिन प्रति दिन लगातार बढ़ रही महंगाई, रूस-यूक्रेन के बीच लंबी जंग, दुनियाभर में सप्लाई चेन को लेकर दिक्कतें, कोविड 19, चीन में लॉकडाउन, रेट हाइक साइकिल, आर्थिक मंदी की आशंका के साथ ही ग्लोबल एजेंसियों द्वारा ग्रोथ अनुमान घटाए जाने का असर बाजार पर पड़ रहा है। 

जानकारों का कहना है कि महंगाई की वजह से बाजार में गिरावट है। भारत में थोक महंगाई 17 साल के हाई पर है। RBI द्वारा आगे रेट कट की संभावनाएं हैं। मई की बात करें तो 19 तारीख तक सेंसेक्स में करीब 4000 अंकों की गिरावट आ चुकी है। 29 अप्रैल 2022 को सेंसेक्स 57061 के लेवल पर बंद हुआ था। वहीं कल कारोबार में यह 53054 तक पहुंच गया। 

29 अप्रैल को जब बाजार बंद हुआ था तो बीएसई पर लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 267 लाख करोड़ था। गुरुवार को कैप घटकर 249 लाख करोड़ रह गया। यानी इसमें 18 लाख करोड़ के करीब गिरावट आई है। बुधवार को अमेरिकी बाजार भारी गिरावट पर बंद हुए। डाउजोंस में 1165 अंकों की गिरावट रही और यह 31,490 के लेवल पर बंद हुआ। 

वैश्विक रेटिंग एजेंसी S&P ने भारतीय इकोनॉमी की ग्रोथ अनुमान में कटौती की है। बढ़ती महंगाई और रूस-यूक्रेन के बीच चल रही लड़ाई के चलते भारतीय अर्थव्यवस्था की ग्रोथ प्रभावित हो सकती है। S&P के मुताबिक भारत की GDP मौजूदा वित्त वर्ष 2022-23 में 7.3 फीसदी की दर से बढ़ सकती है। इससे पहले पिछले साल दिसंबर में रेटिंग एजेंसी ने 2022-23 के लिए भारत की GDP ग्रोथ का अनुमान 7.8 फीसदी लगाया था।  

अगले वित्त वर्ष 2023-24 के लिए 6.5 फीसदी ग्रोथ का अनुमान लगाया गया है। वहीं गोल्डमैन ने चीन के GDP ग्रोथ अनुमान में 4 फीसदी कटौती की है। विेदेशी निवेशक लगातार बिकवाल बने हुए हैं। मई में अबतक उन्होंने बाजार से 37937 करोड़ रुपये निकाल लिए। वे लगातार 8वें महीने शेयर बेचे हैं।  

अमेरिका में महंगाई दर 4 दशक के ऊपरी स्तर पर है। वहीं घरेलू स्तर पर भी महंगाई दर में इजाफा हो रहा है। इससे आने वाले दिनों में कंपनियों के मुनाफे पर असर पड़ सकता है, जिससे सीधे तौर पर अर्थव्यवस्था प्रभावित होगी।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.