एक्सिस म्यूचुअल फंड में फ्रंट रनिंग, कंपनी ने फंड मैनेजर को निकाला  

मुंबई। एक्सिस म्यूचुअल फंड ने कहा है कि उसने अपने फंड मैनेजर विरेश जोशी को निकाल दिया है। जोशी के ऊपर गुप्त जानकारी के आधार पर कारोबार करने का आरोप था। इससे पहले एक्सिस ने फरवरी से दो फंड मैनेजरों की जांच शुरू की थी। हालांकि कंपनी ने यह नहीं बताया जोशी ने इस दौरान क्या गलत काम किया था। 

बता दें कि देश के सातवें सबसे बड़े फंड हाउस एक्सिस म्यूचुअल फंड में फ्रंट रनिंग का मामला सामने आया था। इसके बाद इसके दो फंड मैनेजरों विरेश जोशी और दीपक अग्रवाल को छुट्टी पर भेज दिया गया। विरेश इस फंड हाउस की सात इक्विटी स्कीमों का प्रबंधन करते थे जबकि अग्रवाल इक्विटी रिसर्च और फंड मैनेजर थे। उनको भी 3 फंड के प्रबंधन से निकाल दिया गया है। 

सूत्रों के मुताबिक, दोनों के खिलाफ शिकायतें मिली थीं, जिसके बाद यह कार्रवाई की गई है। सेबी ने इस मामले में जांच शुरू की थी और उसी के बाद दोनों को निकालने की प्रक्रिया शुरू हुई। जिन 7 स्कीमों को ये फंड मैनेजर मैनेज करते थे, उसमें एक्सिस कंजम्प्शन ईटीएफ, एक्सिस बैंकिंग ईटीएफ, निफ्टी ईटीएफ, आर्बिट्रेज फंड, क्वांट फंड, टेक्नोलॉजी फंड  ईटीएफ और वैल्यू फंड था।  

फ्रंट रनिंग का मतलब यह होता है जब कोई फंड मैनेजर किसी खास जानकारी के आधार पर बड़े पैमाने पर शेयरों की खरीदी या बिक्री करे और इससे वह फायदा कमाए। इस तरह की गतिविधियां भारत में अवैध मानी जाती हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.