रिलायंस को पीछे छोड़ राजस्व में सबसे बड़ी कंपनी बनी इंडियन ऑयल

नई दिल्ली। इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन (आईओसी) राजस्व के लिहाज से देश की सबसे बड़ी कंपनी बन गई है। इसका कुल राजस्व वित्तवर्ष 2021-22 में 7.28 लाख करोड़ रुपये रहा। जबकि इसकी सब्सिडियरी को जोड़ दें तो यह 7.36 लाख करोड़ रुपये हो गया। हालांकि चौथी तिमाही में इसका शुद्ध फायदा 31.4 फीसदी गिरकर 6,021 करोड़ रुपये रहा। एक साल पहले यह 8,781 करोड़ रुपये था।

वैसे रिलायंस इंडस्ट्रीज का राजस्व मार्च में 7.92 लाख करोड़ रुपये था और और उसने देश की सबसे बड़ी कंपनी का दावा किया था। पर उसमें उसका जीएसटी भी था जो वह सरकार को देती है। आईओसी के राजस्व में जीएसटी का मामला नहीं होता है।

आईओसी ने कहा कि पूरे साल के दौरान उसका अब तक का रिकॉर्ड फायदा 24,184 करोड़ रुपये रहा। एक साल पहले यह 21,836 करोड़ रुपये था। रिलायंस का फायदा पूरे साल के दौरान 60,705 करोड़ रुपये रहा। शेयर बाजारों को दी सूचना में कंपनी ने कहा कि पेट्रोल, डीजल और घरेलू एलपीजी की बिक्री पर उसे काफी नुकसान हुआ। इसने जनवरी से मार्च के दौरान हर बैरल पर 18.54 डॉलर की कमाई की, जबकि एक साल पहले इसकी ग्रॉस रिफाइनिंग मार्जिन 10.59 डॉलर प्रति बैरल थी।

इंडियन ऑयल देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी है। कच्चे तेल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़त के बावजूद भी देश में चुनाव के कारण इसने लंबे समय तक तेल की कीमतों में बढ़ोतरी नहीं की। इससे इन कंपनियों को भारी नुकसान हुआ। हालांकि बाद में 10 रुपये प्रति लीटर इसने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा किया। इसी तरह खाना पकाने वाली एलपीजी की कीमतों में मार्च और मई में 50-50 रुपये प्रति सिलिंडर का इजाफा किया गया। इंडियन ऑयल ने प्रति शेयर 3.60 रुपये का लाभांश घोषित किया है।

कंपनी के चेयरमैन एसएम वैद्य ने कहा कि भारत में राजस्व के लिहाज से यह सबसे बड़ी कंपनी है और इसने अब तक का रिकॉर्ड फायदा भी कमाया है। इसने साल भर में निर्यात सहित 86 मिलियन टन उत्पादों की बिक्री की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.