अप्रैल में म्यूचुअल फंडों ने लगाया हिंडालको पर दांव, अदाणी पोर्ट के 8,586 करोड़ के शेयर बेचे  

मुंबई- अप्रैल महीने में म्यूचुअल फंडों ने हिंडालको के शेयर पर दांव लगाया है। इसके 12,166 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे गए हैं। लार्ज कैप में यह सबसे ज्यादा खरीदा जाने वाला स्टॉक रहा है। जबकि इसी कैटेगरी में अदाणी पोर्ट के 8,586 करोड़ रुपये के शेयर बेच दिए गए।  

लार्ज कैप में मुख्य रूप के खरीदे गए शेयरों में एसबीआई कार्ड के 7,931 करोड़ रुपए, ग्रैंड फार्मा के 7,183 करोड़, यूपीएल के 3,983 करोड़ के और इंडियन ऑयल के 3,475 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे गए हैं। इसी दौरान इस कैटेगरी में एचडीएफसी लाइफ के 6,209 करोड़ रुपये के शेयर बेच दिए गए। 

आंकड़ों के मुताबिक, म्यूचुअल फंड हाउसों ने लार्ज कैप में टाटा कंज्यूमर के 4,318 करोड़, अदाणी एंटरप्राइजेज के 4,779 करोड़ और टाटा पावर के 3,203 करोड़ रुपये के शेयर बेच दिए। मिड कैप में सबसे ज्यादा खरीदी टीवीएस मोटर के शेयरों की रही जो 6,003 करोड़ रुपये की रही।  

इसके बाद जी एंटरटेनमेंट के 4,647 करोड़ के, बंधन बैंक के 3,356 करोड़ के और एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस के 2,589 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे गए। मिडकैप में सबसे ज्यादा बिकने वाले शेयर इंद्रप्रस्थ गैस और एलएंटटी टेक के रहे। इसके बाद टाटा एलेक्सी के 1,272 करोड़ के और एस्कार्ट के 902 करोड़ रुपये के शेयर बेचे गए।  

स्माल कैप में सबसे ज्यादा खरीदी 796 करोड़ रुपये के शेयर बार्बीक्यू नेशन के खरीदे गए। इस कैटेगरी में सबसे ज्यादा बिकवाली 1,431 करोड़ के मेट्रोपॉलिस हेल्थ के शेयर म्यूचुअल फंडों ने बेच डाले। प्रमुख फंड हाउसों की बात करें तो एसबीआई म्यूचुअल फंड ने टीवीएस मोटर के 1,026 करोड़ के और बंधन बैंक के 851 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे।  

आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल ने एसबीआई कार्ड के 1,264 करोड़ के और प्रोक्टर एंड गैंबल के 368 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे। एशियन पेंट्स का इसने 398 करोड़ रुपये का शेयर खरीदा। एचडीएफसी म्यूचुअल फंड ने सिंफोनी और टाइटन के  शेयरों में दांव लगाया जबकि निप्पोन ने इंडियन ऑयल और महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयरों पर दांव लगाया।  

बिड़ला सन लाइफ ने ग्लैंड फार्मा और बंधन बैंक के शेयरों में सबसे ज्यादा खरीदी की। एक्सिस म्यूचुअल फंड ने रिलायंस इंडस्ट्रीज के 3,966 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.