जोमैटो, नायका और पेटीएम के शेयर में निवेशकों की रकम आधी हुई  

मुंबई। शेयर बाजारों में पिछले साल नई उम्र की सूचीबद्ध हुई कंपनियों ने निवेशकों की रकम को आधा कर दिया है। इनके शेयरों में लगातार गिरावट जारी है। हाल यह है कि अब तीन प्रमुख कंपनियों में से किसी का भी मार्केट कैप 75 हजार करोड़ रुपये भी नहीं है। जबकि एक समय तीनों कंपनियों जोमैटो, नायका और पेटीएम का मार्केट कैप 1-1 लाख करोड़ रुपये से ऊपर पहुंच गया था। पर अब इनके शेयरों की लगातार पिटाई से निवेशकों का इनमें से निकलना भी मुश्किल हो गया है। खासकर पेटीएम ने तो निवेशकों के निवेश को एक चौथाई पर लाकर खड़ा कर दिया है। 

शुक्रवार को तीनों कंपनियों के शेयरों में भारी गिरावट आई। जोमैटो का शेयर अब 58 रुपये पर पहुंच गया है। यह नवंबर में 169 रुपये के शीर्ष पर था। तब उसका मार्केट कैप 1.33 लाख करोड़ रुपये था, जो अब 70 फीसदी घटकर 46,000 करोड़ रुपये पर आ गया है। यह शेयर इश्यू प्राइस से भी नीचे आ गया है। हालांकि लिस्टिंग के बाद इसने निवेशकों के पैसे को दोगुना कर दिया था।  

पेटीएम की बात करें तो इसका शेयर अब 561 रुपये पर है। आईपीओ में इसका भाव 2,150 रुपये था। पर इसकी खराब लिस्टिंग ने ही निवेशकों को संकट में डाल दिया। तब से यह शेयर लगातार गिरावट में है। पेटीएम का शेयर 1955 रुपये पर सूचीबद्ध हुआ था। उस समय उसका मार्केट कैप 1.19 लाख करोड़ रुपये था जो अब 83 हजार करोड़ रुपये घटकर 36 हजार करोड़ रुपये पर आ गया है। यानी निवेशकों को 70 फीसदी का घाटा हुआ है।  

नायका की हालांकि लिस्टिंग अच्छी थी और इसके शेयर ने आईपीओ के भाव की तुलना में दोगुना का फायदा निवेशकों को दिया। पर अब यह भी टूट रहा है। 2,574 रुपये तक पहुंचा यह शेयर अब 1,523 रुपये पर आ गया है। इसका बाजार पूंजीकरण 1.19 लाख करोड़ रुपये नवंबर में था, जो अब घटकर 72 हजार करोड़ रुपये हो गई है।  

यानी निवेशकों को 47 हजार करोड़ रुपये की चपत लगी है। यह तीनों कंपनियां घाटा देने वाली हैं पर निवेशकों ने इनमें जमकर पैसे लगाए थे। पेटीएम का इश्यू तो हालांकि किसी तरह भर गया था, पर जोमैटो का आईपीओ 38 गुना और नायका का 12 गुना भरा था।   

Leave a Reply

Your email address will not be published.