भारतीय बाजार में भारी गिरावट, निवेशकों के 10 लाख करोड़ डूबे  

मुंबई- ग्लोबल मार्केट में गिरावट का असर भारतीय बाजारों पर भी देखने को मिला। सेंसेक्स और निफ्टी में हफ्ते के पांचवें कारोबारी दिन शुक्रवार को भारी गिरावट के साथ बंद हुए। सेंसेक्स 866 या 1.56% पॉइंट की गिरावट के साथ 54,835 पर, जबकि निफ्टी 271 या1.63%) अंको की गिरावट के साथ 16,411 पर बंद हुआ। IT, मेटल, रियल्टी और प्राइवेट बैंक के शेयरों में सबसे ज्यादा गिरावट है। 

उधर, मई में निवेशकों के 10 लाख करोड़ रुपये डूब गए हैं। 2 मई को बाजार पूंजीकरण 265 लाख करोड़ रुपये था, जो शुक्रवार को 255 लाख करोड़ रुपये रह गया। अमेरिकी बाजार में गुरुवार को 2020 के बाद से सबसे बड़ी इंट्राडे गिरावट आई। डाउ जोन्स 1000 पॉइंट से ज्यादा की गिरावट के साथ बंद हुआ, नैस्डैक लगभग 650 अंक गिरा और एसएंडपी 500 में 150 पॉइंट से ज्यादा की गिरावट रही।  

BSE के मिड कैप और स्मॉल कैप में 450 पाइंट से ज्यादा की गिरावट रही। मिड कैप में अडाणी पावर, अबॉट इंडिया, श्रीराम फाइनेंस, जील, ऑयल, टाटा कम्यूनिकेशन, ABB और NHPC में बढ़त रही। स्टील ऑथारिटी इंडिया, क्रिसिल, बायोकॉन, वोल्टास, नौकरी, फेडरल बैंक और एस्टरल में गिरावट रही। स्मॉल कैप में एशियन टाइल्स, CSB बैंक, रिलायंस इंडस्ट्री इंफ्रास्ट्रक्चर और HIL में बढ़त रही। 

निफ्टी के सभी 11 सेक्टोरल इंडेक्स में गिरावट रही। इसमें सबसे ज्यादा 3.56% की गिरावट रियल्टी इंडेक्स में रही। वहीं 2% से ज्यादा गिरावट वाले सेक्टर में IT, फाइनेंशियल सर्विस, प्राइवेट बैंक और मेटल रहे। बैंक, ऑटो, मीडिया और फार्मा में 1% से ज्यादा की गिरावट है। वहीं FMCG, PSU बैंक मामूली गिरावट रही। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.