सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया बंद करेगा 600 शाखाएं, खर्च घटाने की योजना  

मुंबई। सरकारी क्षेत्र के बैंक सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया 600 शाखाओं को बंद करने की योजना बना रहा है। यह सभी शाखाएं कई सालों से घाटे के दबाव में हैं। इन्हें या तो बंद किया जाएगा या किसी और शाखा में मिला दिया जाएगा। यह योजना मार्च 2023 तक पूरी की जाएगी।  

बैंक अपनी नॉन कोर संपत्तियों को बेचकर बैलेंसशीट को मजबूत करना चाहता है। इसकी कुल 4,594 शाखाएं हैं। इसका मतलब करीबन 13 फीसदी शाखाओं को बंद या किसी और मिलाया जा सकता है। रॉयटर्स ने सूत्रों के हवाले से कहा है 100 साल पुराने बैंक को भारतीय रिजर्व बैंक ने साल 2017 मं प्राम्पट करेक्टिव एक्शन (पीसीए) की सूची में डाल दिया था। इसका मतलब यह होता है कि बैंक न तो नया कर्ज दे सकता है और न ही नई शाखाएं खोल सकता है। 

खबर के मुताबिक, 2017 में बैंक को 750 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। हालांकि उसके बाद से इसकी स्थिति सुधरती गई और अब यह फायदे में है। सेंट्रल बैंक घाटों वाली संपत्तियों को बेच कर उनसे बाहर निकलना चाहता है। दिसंबर तिमाही में बैंक ने 282 करोड़ रुपये का शुद्ध फायदा कमाया था। जबकि एक साल पहले यह 166 करोड़ रुपये था। इसी तिमाही में इसका बुरे फंसा कर्ज यानी एनपीए 15.16 फीसदी था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.