खादी का कारोबार एक लाख करोड़ के पार, पहली भारतीय एफएमसीजी बनी 

मुंबई- पहली बार देश में खादी का कारोबार एक लाख करोड़ रुपये के पार पहुंच गया है। खादी और ग्रामोद्योग आयोग के खादी ब्रांड ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में एक लाख करोड़ से भी अधिक का कारोबार करते हुए देश की सभी फास्ट मूविंग कंज्यूमर गुड्स (एफएमसीजी) कंपनियों को पीछे छोड़ दिया। 

आयोग के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना ने शनिवार को बताया कि खादी ने पहली बार एक वित्तीय वर्ष में 1,15,415 करोड़ रुपये का कारोबार किया है जो देश में किसी भी एफएमसीजी कंपनी के लिए रिकॉर्ड है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में यह 95,741 करोड़ रुपये था। उन्होंने बताया कि साल 2014 से अब तक की तुलना में खादी के उत्पादन में 172 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है। बीते दो वित्तीय वर्षों में कारोबार 20 फीसदी से ज्यादा बढ़ा है।

सक्सेना ने बताया कि बीते आठ वर्षों में खादी की बिक्री 332 फीसदी बढ़ी है। अकेले ग्रामोद्योग क्षेत्र में ही इस बार 1,10,364 करोड़ रुपये का व्यापार हुआ, जबकि पिछले वित्तीय वर्ष में यह 92,214 करोड़ रुपये था। उन्होंने कहा कि खादी के इस विकास का श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निरंतर प्रयासों को जाता है।

स्वदेशी और विशेष रूप से खादी को बढ़ावा देकर आत्मनिर्भरता प्राप्त करने के लिए पीएम मोदी की अपील का असर दिखाई दे रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि नई दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित खादी के प्रमुख स्टोर पर एक दिन की बिक्री 30 अक्तूबर 2021 को 1.29 करोड़ रुपये हुई थी, जो अब तक का रिकॉर्ड है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.