विनोद खन्ना और फिरोज खान- एक ही दिन मरे, एक ही बीमारी और एक ही साल तलाक लिए  

मुंबई- फिरोज खान और विनोद खन्ना की दोस्ती साल 1976 में शंकर शंभु के सेट पर हुई थी। इस फिल्म के बाद इन दोनों की जोड़ी 1980 की हिट फिल्म कुर्बानी और 1988 में फिल्म दयावान में नजर आई। दोनों ही फिल्मों के प्रोड्यूसर और डायरेक्टर फिरोज खान थे। फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने के बाद विनोद ने दयावान फिल्म से वापसी की थी। दोनों की दोस्ती के कई किस्से आज भी इंडस्ट्री में मशहूर हैं। 

एक्टर फिरोज खान का निधन 27 अप्रैल 2009 में अपने जन्म स्थान बेंगलुरु में हुआ था जिसके ठीक 8 साल बाद 27 अप्रैल 2017 को विनोद खन्ना ने 70 साल की उम्र में अपनी आखिरी सांसें ली थीं। विनोद खन्ना की जिंदगी भी किसी फिल्म की कहानी की तरह उतार-चढ़ावों से भरी हुई थी। उनके पास दौलत, शौहरत और सब कुछ होने के बाद भी उनके जीवन में एक खालीपन सा था।  

विनोद खन्ना ने अपनी करियर की ऊंचाई पर पहुंचकर एक ऐसा फैसला लिया जिसने सबको हैरान कर दिया था। दरअसल, साल 1982 में विनोद खन्ना फिल्‍मी दुनिया छोड़कर अपने गुरु रजनीश ओशो के साथ अमेरिका जाकर उनके आश्रम में रहने लगे। विनोद पांच साल तक अमेरिका में ओशो के आश्रम में रहे थे। बाद में एक इंटरव्यू के दौरान विनोद खन्ना ने बताया था कि उनके पास सब कुछ था लेकिन फिर भी वे अंदर से बेचैन रहते थे।  

ओशो के आश्रम में विनोद ने टायलेट की सफाई करना, बरतन साफ करना और गार्डनिंग के काम किए थे। हालांकि कुछ सालों बाद वो फिर भारत वापस आ गए और फिल्मी दुनिया में उनकी वापसी भी फिरोज खान ने ही करवाई और फिल्म दयावान बनाई। फिरोज खान का निधन 69 साल की उम्र में लंग कैंसर के चलते हुआ था। कई सालों के इलाज के बाद फिरोज अपने आखिरी समय में बेंगलुरु स्थित फार्महाउस में रह रहे थे। वहीं दूसरी तरफ उनके करीबी दोस्त विनोद खन्ना के निधन का कारण भी कैंसर ही बना। विनोद को ब्लैडर कैंसर था जिसके चलते 17 अप्रैल 2017 को उनका निधन हो गया। 

विनोद खन्ना ने साल 1971 में गीतांजलि से शादी की थी। इस शादी से एक्टर को दो बेटे अक्षय और राहुल हैं जो बॉलीवुड के जाने-माने एक्टर हैं। 14 सालों की शादी के बाद विनोद ने साल 1985 में गीतांजलि से तलाक लिया था। ये वही साल है जब फिरोज खान ने भी अपनी पत्नी सुंदरी को तलाक दिया था। 

बॉलीवुड के काऊब्वॉय कहे जाने वाले फिरोज खान ने पाकिस्तान में एक पार्टी के दौरान पाकिस्तानी सिंगर और एंकर फख्र ए आलम के साथ किसी बात पर बहस होने लगी। पाकिस्तान की बड़ाई और भारत की बुराई करती हुए एंकर कुछ ज्यादा ही बोलने लगी थी। पाकिस्तानियों का मुंह बंद करने के लिए फिरोज खान ने एंकर को ऐसा जवाब दिया कि उनका मुंह उसी समय बंद हो गया।  

फिरोज खान ने कहा कि हमारे भारत में हर कौम तरक्की कर रही है और इस्लाम के नाम पर बना पाकिस्तान पिछड़ रहा है। यहां मुस्लिम रहते हैं फिर भी आपस में लड़ते हैं हमारे यहां राष्ट्रपति मुस्लिम और प्रधानमंत्री सिख हैं। इस बात को लेकर मुद्दा इतना बढ़ गया कि भारत आने के बाद पाकिस्तान ने फिरोज खान की पाकिस्तान में एंट्री बैन करवा दी। जिसके बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने भारत में पाकिस्तानी हाई कमिश्नर को निर्देश दिया था कि इस शख्स को पाकिस्तान का वीजा न दिया जाए। इसके बाद से फिरोज खान ने पाकिस्तान की यात्रा नहीं की। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.