जनवरी-मार्च में जहाज से यात्रा करने वालों की संख्या में आई तेजी 

मुंबई- कोरोना के मामले कम होने और फ्लाइट की संख्या बढ़ने से अब हवाई सफर में तेजी देखी जा रही है। जनवरी-मार्च में डोमेस्टिक एयर पैसेंजर ट्रैफिक बढ़कर 248 लाख हो गया है, जो पिछले साल की इसी महीने की तुलना में 6.1% ज्यादा है। 

डायरेक्टोरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (DGCA) के मुताबिक मार्च में डोमेस्टिक फ्लाइट से 106.96 लाख लोगों ने सफर किया, जो कि फरवरी 2022 की 78.22 लाख की तुलना में 36.7% ज्यादा है। DGCA की रिपोर्ट में सामने आया है कि जनवरी-मार्च 2022 के दौरान डोमेस्टिक फ्लाइट में सफर करने वाले लोग 248.00 लाख रहे, जो पिछले साल इसी महीने के दौरान 233.83 लाख रही। इससे इसमें 6.06% की सालाना बढ़त और 36.74% की मंथली बढ़त देखी गई। 

प्राइवेट कंपनी इंडिगो ने फरवरी महीने 51.3% बाजार हिस्सेदारी की तुलना में मार्च महीने के दौरान डोमेस्टिक एयरलाइन मार्केट में 54.8% की बाजार हिस्सेदारी के साथ मार्केट में अपनी पकड़ बनाए रखी। पैसेंजर लोड ट्रैफिक (PLF) के मामले में, इंडिगो में गिरावट देखी गई। मार्च में इसका PLF घटकर 81% हो गया, जबकि फरवरी में यह 85.2% था। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि मार्च में एयर इंडिया की बाजार हिस्सेदारी घटकर 8.8% रह गई, जो फरवरी में 11.1% थी। स्पाइसजेट का PLF फरवरी में 89.1% के मुकाबले घटकर 86.1% रह गया। हालांकि, एअर इंडिया का PLF पिछले महीने के 84.1% से मामूली रूप से सुधरकर मार्च में 85% हो गया। 

जहां कोविड से बैन हटने से यात्रियों की संख्या में सुधार हुआ है, वहीं डोमेस्टिक एविएशन सेक्टर को अभी भी महामारी के पहले लेवल तक पहुंचना बाकी है। 17 अप्रैल को डेली डोमेस्टिक एयर ट्रैफिक बढ़कर 4.1 लाख हो गया, जो पिछले 2 सालों में सबसे ज्यादा रहा। जो कोविड के पहले की तुलना से लगभग 95% के करीब है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.