18 साल से ऊपर वालों को कोरोना तीसरा डोज, मुफ्त में नहीं मिलेगा 

मुंबई- 10 अप्रैल से 18 वर्ष से अधिक की उम्र का कोई भी शख्स अपने नजदीकी निजी वैक्सीनेशन केंद्र पर कोविड वैक्सीन की तीसरी डोज लगवा सकता है। इस बूस्टर डोज को 18 साल या उससे ज्यादा उम्र वाले वे सभी लोग लगवा सकेंगे, जिन्हें वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाए हुए कम से कम 9 महीने बीत चुके हों। 

यह सुविधा सभी निजी टीकाकरण केंद्रों पर उपलब्ध कराई जा रही है, जिसका मतलब यह हुआ कि तीसरी डोज़ मुफ्त में नहीं लगेगी। अब तक स्वास्थ्यकर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 साल या उससे अधिक उम्र वाले 6.4 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन की तीसरी डोज लगाई जा चुकी है। 

अभी सरकारी वैक्सीनेशन केंद्रों पर बिना पैसे के कोरोना वैक्सीन की पहली और दूसरी डोज लगाई जा रही है। इसके अलावा हेल्थकेयर वर्कर्स, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 साल से ज्यादा उम्र वालों को भी सरकारी केंद्रों पर मुफ्त तीसरी डोज़ लगाई जा रही है। सरकारी केंद्रों पर वैक्सीनेशन कार्यक्रम जारी रहेगा और इसमें तेजी भी लाई जाएगी। 

भारत में पिछले साल जनवरी से ही दुनिया का सबसे बड़ी टीकाकरण कार्यक्रम चल रहा है। देश भर में अब तक 15 साल या उससे अधिक उम्र वाले 96 फीसदी लोगों को कोरोना वैक्सीन की कम से कम एक डोज लग चुकी है। ऐसे 83 फीसदी को वैक्सीन की दोनों डोज लगाई जा चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में 12 से 14 साल की उम्र वाले करीब 45 फीसदी बच्चों को भी कोविड वैक्सीन की कम से कम एक डोज लग चुकी है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.