अब बैंक के लॉकर्स भी सुरक्षित नहीं, सेंट्रल बैंक के कई लॉकर्स में चोरी 

मुंबई- अगर आपका कीमती सामान बैंक के लॉकर में हैं तो एक बार जरूर चेक कर लें। कहीं ऐसा न हो कि लॉकर में रखा कीमती सामान गायब हो जाए। दरअसल उत्तर प्रदेश के कानपुर शहर में सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की कराची खाना ब्रांच के बैंक लॉकरों से गहने चोरी होने की घटना सामने आई है।  

जैसे ही ग्राहकों को लॉकर से गहने चोरी होने की बात पता चली, सभी ग्राहक अपने लॉकर चेक करने लगे। अब तक 9 लॉकरों से 3 करोड़ रुपये के गहने गायब होने की खबर सामने आई है। मंगलवार को सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहकों ने बताया कि 6 ग्राहकों के लॉकर से 1.75 करोड़ रुपये के गहने पार हो गए हैं।  

वहीं बुधवार को दो और लॉकरों से 52 लाख गहने गायब होने की सूचना मिली है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 24 दिनों के भीतर से बैंक से 9 लॉकरों से 3 करोड़ रुपये के गहने गायब हो गए हैं। फीलखाना के SHO वीर पाल ने कहा कि अब तक ऐसे 9 मामले सामने आए हैं। जिनमें 5 पिछले 24 घंटे में आए हैं। हम मामले की जांच पड़ताल कर रहे हैं। इसके लिए कुछ बैंक के कर्मचारियों को पूछताछ के लिए बुलाया गया है।  

बुधवार को 63 ग्राहकों ने अपने लॉकर चेक किए। अब तक कुल 212 ग्राहक लॉकर चेक कर चुके हैं। 14 मार्च को सबसे पहले एक महिला ग्राहक ने बैंक का लॉकर न खुलने की शिकायत की थी। लॉकर कंपनी की मदद से जब लॉकर खोला गया तो उसमें 30 लाख के गहने गायब थे। बैंक के लॉकर से चोरी घटना सामने आते ही शहर में हड़कंप मच गया है। सभी ग्राहक अपने-अपने लॉकर चेक करने लगे। मंगलवार को 160 ग्राहकों ने अपने लॉकर चेक किए। साथ ही फोरेंसिक जांच की मांग करते हुए हंगामा भी किया।  

बैंक के कुल 507 लॉकर किराये पर उठाए गए हैं। सेंट्रल बैंक की कराची खाना ब्रांच में 14 मार्च के बाद अपना लॉकर चेक करने पहुंचे एक के बाद एक तीन ग्राहकों (मंजू भट्टाचार्या, सीमा गुप्ता, शकुंतला देवी) को उनके लॉकर खाली मिले थे, जिनमें लाखों रुपये के गहने रखे थे। मंगलवार को दो अन्य महिलाओं लालबंगला निवासी मीना यादव के लॉकर से करीब 80 लाख के गहने गायब मिले। वहीं सिविल लाइंस निवासी निर्माला तहल्यानी के लॉकर से 35 लाख रुपये के गहने गायब थे। इनके भी लॉकर चाभी से नहीं खुल सके थे।  

पंकज गुप्ता के लॉकर से 35 लाख रुपये और विजय माहेश्वरी के लॉकर से 20 लाख रुपये के गहने गायब मिले। पंकज की पत्नी ने जैसे ही खाली लॉकर देखा वो बेहोश हो गईं। तुरंत परिजन एक निजी अस्पताल में ले गए। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.