भारत का व्यापार घाटा 192 अरब डॉलर से ज्यादा हुआ 

मुंबई- भारत का व्यापार घाटा वित्त वर्ष 2022 में 87.5 फीसदी बढ़कर 192.41 अरब डॉलर रहा। इससे पिछले वित्त वर्ष में देश को 102.63 अरब डॉलर व्यापार घाटा हुआ था। सोमवार को कॉमर्स एंड इंडस्ट्री मिनिस्ट्री की तरफ से जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई।  

बता दें कि जब निर्यात कम होता है और आयात अधिक होता है, तो उसे व्यापार घाटा कहते हैं। वही जब कोई देश आयात कम और निर्यात अधिक करता है तो उसे ट्रेड सरप्लस कहते हैं। सरकार की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक, वित्त वर्ष 2022 में भारत ने रिकॉर्ड 417.81 अरब डॉलर का निर्यात किया। हालांकि इसके साथ भारत ने 610.41 अरब डॉलर की वस्तुओं का आयात भी किया। 

इस तरह निर्यात की तुलना में आयात अधिक रहने से देश का व्यापार घाटा वित्त वर्ष 2022 में 192.41 अरब डॉलर रहा। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के मुताबिक, “भारत ने वित्त वर्ष 2022 में 610.22 अरब डॉलर की वस्तुओं का आयात किया, जो इसके पिछले वित्त वर्ष से 54.71 फीसदी अधिक है। वित्त वर्ष 2021 में भारत का आयात 394.44 अरब डॉलर रहा था।  

वहीं वित्त वर्ष 2020 में भारत का आयात 474.71 अरब डॉलर रहा था, जिसके मुकाबले यह 28.55 फीसदी अधिक है। वित्त वर्ष 2022 के आखिरी महीने मार्च में देश का व्यापार घाटा 18.69 अरब डॉलर रहा। वहीं पूरे वित्त वर्ष 2022 में यह 192.41 अरब डॉलर था। इसके अलावा भारत ने मार्च 2022 में पहली बार 40 अरब डॉलर से अधिक निर्यात किया, जो इसके पिछले महीने से 14.53 फीसदी अधिक था।  

फरवरी 2022 में देश ने 35.26 अरब डॉलर का एक्सपोर्ट किया था। वहीं मार्च 2020 के मुकाबले यह 87.89 फीसदी अधिक है, जब देश ने 21.49 अरब डॉलर का एक्सपोर्ट किया था। मार्च 2022 में देश ने 59.07 अरब डॉलर की वस्तुओं का आयात किया, जो मार्च 2021 के 48.90 अरब डॉलर के मुकाबले 20.79 फीसदी अधिक है। वहीं मार्च, 2020 के 31.47 अरब डॉलर के मुकाबले यह 87.68 फीसदी अधिक है। 

आयात बिल में 31% योगदान पेट्रोलियम उत्पादों का है। वित्त वर्ष 2022 में कुल 18.4 अरब डॉलर के पेट्रोलियम उत्पाद आयात हुए, जो वित्त वर्ष में आयात हुए 10.2 अरब डॉलर के आयात से 80% अधिक है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.