IPL के मीडिया राइट्स के लिए अंबानी और बेजोस लगाएंगे दांव 

मुंबई-  दुनिया के दो दिग्गज कारोबारी मुकेश अंबानी और जेफ बेजोस इंडियन प्रीमियर लीग के ऑनलाइन स्ट्रीमिंग राइट्स के लिए आमने-सामने होंगे। BCCI ने मंगलवार को IPL सीजन 2023-2027 के मीडिया अधिकार के लिए टेंडर जारी किए हैं। मीडिया राइट्स के लिए ई-नीलामी 12 जून से शुरू होगी। 

अंबानी की रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड और अमेजन दोनों मीडिया राइट्स हासिल करने के लिए पूरा जोर लगाएंगे। ये दोनों दुनिया के सबसे तेजी से बढ़ते बाजारों में से एक में ई-कॉमर्स सुप्रीमेसी के लिए भी जंग लड़ रहे हैं। ऐसा पहली बार होगा, जब टेलीविजन पर मैचों के प्रसारण और उन्हें ऑनलाइन स्ट्रीम करने के अधिकार अलग-अलग बेचे जाएंगे। इससे Amazon.com Inc. और इसकी प्राइम वीडियो सर्विस के लिए दरवाजे खुल जाएंगे।  

दोनों के लिएनीलामी जीतना प्रतिष्ठा का सवाल है, इसलिए रिलायंस, अमेजन सहित अन्य कंपनियां अपनी पूरी ताकत लगा देंगी। अमेजन और रिलायंस को वॉल्ट डिजनी और सोनी पिक्चर्स-जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज से भी बोली के लिए कड़ी टक्कर मिल सकती है। IPL मीडिया राइट्स हासिल करने के लिए बोली 50,000 करोड़ के पार जा सकती है। 

क्रिकेट की लाइव स्ट्रीमिंग भारत में तेजी से लोकप्रिय हो रही है। ये देश के 1.4 अरब लोगों तक पहुंचने का एक प्रभावी तरीका बन गया है। IPL भारत में साल का सबसे बड़ा इवेंट है। ऐसे में जो भी लाइव स्ट्रीमिंग के राइट्स जीतेगा उसे पांच साल तक हर साल लगातार 6 हफ्तों के लिए ज्यादा से ज्यादा ऑडियंस रीच मिलेगी। 

नीलामी में शामिल होने के लिए 10 मई तक नॉन-रिफंडेबल 25 लाख रुपए+ GST की रकम जमा कराना होगा। इंडियन प्रीमियर लीग के प्रसारण अधिकार फिलहाल स्टार इंडिया (इसे बाद में डिज्नी ने खरीद लिया) के पास हैं। 16,348 करोड़ रुपए में स्टार इंडिया ने इसे 2018-2022 के लिए हासिल किया था। इससे पहले 2008-2017 तक IPL के प्रसारण अधिकार सोनी के पास थे।  

8200 करोड़ रुपए में सोनी को ये अधिकार मिले थे। पहली बार 2015-2017 के लिए हॉटस्टार को 303 करोड़ रुपए में डिजिटल प्लेटफॉर्म पर मैच प्रसारित करने के अधिकार मिले थे। साल 2019 में अमेजन ने 1500 करोड़ रुपए में फ्यूचर कूपन में 49% हिस्सेदारी खरीदी थी। इस डील के तहत अमेजन को 3 से 10 साल के भीतर फ्यूचर रिटेल में हिस्सेदारी खरीदने का भी अधिकार मिला था, लेकिन 2020 में फ्यूचर ग्रुप के रिटेल, होलसेल और लॉजिस्टिक्स बिजनेस को रिलायंस रिटेल ने 24,713 करोड़ रुपए में खरीदने की घोषणा की। इसी के बाद से ये विवाद शुरू हुआ। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.