नरगिस ने मीना कुमारी के मरने पर कहा- तुम्हें मौत मुबारक, दुनिया में दोबारा मत आना  

मुंबई- साहिब बीबी और गुलाम, पाकीजा, मेरे अपने, बैजू बावरा, दिल अपना प्रीत पराई जैसी कई हिट फिल्मों की नायिका मीना कुमारी का निधन 31 मार्च 1972 को हुआ था। फिल्मों में चकाचौंध से भरा जीवन जीते हुए नजर आने वालीं मीना कुमारी की जिंदगी के आखिरी दिन एक डरावने सपने की तरह थे, जहां न प्यार था, न कोई रिश्तेदार। मीना कुमारी की दुखभरी जिंदगी से नरगिस इतनी परेशान थीं कि उनकी मौत पर एक लेख में लिखा था, मीना, तुम्हें मौत मुबारक हो। अब दोबारा इस दुनिया में कदम मत रखना। 

मीना कुमारी ने डायरेक्टर-प्रोड्यूसर कमाल अमरोही से शादी की थी। उनकी शादीशुदा जिंदगी बहुत खराब रही। कमाल ने उन पर कई पाबंदियां लगा रखी थीं। उनके साथ मारपीट भी होती थी। एक्ट्रेस नरगिस ने खुद मीना के कमरे से आती उनके साथ होने वाली मारपीट की आवाजें सुनीं। इतनी दुखी रहती थीं कि उन्हें फिल्म की शूटिंग पर रोने के लिए कभी ग्लिसरीन की जरूरत नहीं पड़ी, लेकिन, उनके चाहने वाले ऐसे थे, जो उनके बालों की ताबीज बनवाकर पहना करते थे।  

अली बक्श के लिए घर चला पाना मुश्किल था, जिससे वो 4 साल की महजबीं को भी अपने साथ फिल्म स्टूडियो ले जाने लगे। ये सिलसिला फायदेमंद साबित हुआ और महजबीं के लुक से खुश होकर डायरेक्टर विजय भट्ट ने उन्हें अपनी फिल्म लेदरफेस में कास्ट कर लिया। पहले दिन ही उन्हें 25 रुपए फीस मिली, जो उस समय काफी बड़ी रकम होती थी। ये फिल्म 1939 में रिलीज हुई, जिसके बाद घर की आर्थिक जिम्मेदारी 6 साल की महजबीं पर आ गई। 

रमणिक प्रोडक्शन ने 13 साल की मीना को फिल्म बच्चों का खेल में कास्ट किया। इस फिल्म की रिलीज के 18 महीने बाद मीना ने अपनी मां इकबाल बेगम को खो दिया। उस उम्र में मां को खोना एक बड़ा सदमे जैसा था, लेकिन मीना नहीं रुकीं। उन्होंने दुनिया एक सराय, पिया घर आजा, बिछड़े बलम में काम किया। इन फिल्मों में अभिनय के साथ मीना ने गानों को अपनी आवाज भी दी थी। 

कमाल अमरोही और मीना कुमारी की लव स्टोरी किसी फेयरीटेल से कम नहीं थी। कमाल ने पहली बार मीना को तब देखा था, जब वो 5 साल की थीं। कमाल उन्हें अपनी फिल्म के लिए देखने गए थे। तब बात नहीं बनी। 14 साल बाद अशोक कुमार ने मीना का परिचय दोबारा कमाल से करवाया। कमाल ने मीना को फिल्म अनारकली ऑफर की। कुछ समय बाद मीना का एक्सीडेंट हुआ, वो अस्पताल में भर्ती रहीं।  

कमाल रोजाना उनसे मिलने जाया करते थे और जब पाबंदिया होती थीं, तो दोनों एक-दूसरे को खत लिखते थे। करीब 4 महीनों के इस सिलसिले में दोनों की मोहब्बत परवान चढ़ी और 14 फरवरी 1952 को दोनों ने गुपचुप तरीके से निकाह कर लिया। इस समय मीना महज 18 और कमाल 34 साल के थे। 

मीना सीक्रेट शादी के बावजूद अपने पिता अली बक्श के साथ रहती थीं, लेकिन, जैसे ही इस शादी की खबर उनके घर पहुंची तो बवाल हो गया। पिता ने उन पर तलाक लेने का दबाव बनाया। पाबंदियां बढ़ गईं। कमाल ने इसी समय मीना को अपनी फिल्म दायरा ऑफर की, लेकिन पिता ने इनकार कर दिया। पिता ने कहा कि अगर मीना दायरा फिल्म में काम करेंगी, तो उसके लिए घर के दरवाजे बंद हो जाएंगे। 

हालांकि मीना ने दायरा की शूटिंग शुरू की। ये खबर उनके पिता तक पहुंच गई। आधी रात को जब मीना शूटिंग पूरी कर घर पहुंचीं, तो पिता ने दरवाजा खोलने से इनकार कर दिया। मीना ने अपनी गाड़ी घुमाई और पति कमाल अमरोही के घर पहुंच गईं। कमाल अमरोही ने शादी के बाद मीना को काम करने की इजाजत तो दी, लेकिन कई पाबंदियों के साथ।  

मीना के मेकअप रूम में मेकअप आर्टिस्ट के अलावा किसी को जाने की इजाजत नहीं थी। शाम 6ः30 बजे खुद की कार से वापस आना था। मीना मान तो गईं, लेकिन एक नायिका के लिए ये शर्तें फॉलो करना मुश्किल था। कमाल ने मीना पर नजर रखवानी शुरू कर दी थी।  

इरोज सिनेमा में सोहराब मोदी ने महाराष्ट्र सरकार के एक कार्यक्रम में मीना का परिचय करवाते हुए कहा, ये जानीमानी एक्ट्रेस मीना कुमारी हैं और ये उनके पति कमाल अमरोही। कमाल ने गुस्सा करते हुए तुरंत कहा, नहीं, मैं कमाल अमरोही हूं और ये मेरी पत्नी मीना है। गुस्से में कमाल ने तुरंत ऑडिटोरियम छोड़ दिया और मीना ने पूरा प्रीमियर अकेले देखा। 

तमाम पाबंदियों के बावजूद मीना ने एक बार गीतकार गुलजार को अपने मेकअप रूम में आने दिया। ये देखते ही कमाल के असिस्टेंट बकर अली ने मीना को जोरदार थप्पड़ जड़ दिया। मीना ने कमाल को शिकायत करते हुए सेट पर बुलाया, लेकिन उन्होंने तवज्जो ही नहीं दी। मीना टूट चुकी थीं और शादी बचाने की उनकी उम्मीद भी। मीना सीधे अपनी बहन के पास गईं और फिर कभी वापस नहीं आईं।  

पति से अलग होते ही मीना अकेली पड़ गईं। उन्हें क्रोनिक इन्सोम्निया हो गया। लंबे समय से नींद की दवाइयों का सहारा ले रहीं मीना को शराब की लत पड़ गई। मीना ने धीरे-धीरे नशे से नजदीकियां और दुनिया से दूरी बना ली। नशे की लत मीना को पहले लीवर सिरोसिस और फिर मौत के करीब ले गई। 

विवादों के बावजूद मीना कुमारी ने कमाल की फिल्म पाकीजा में काम करना जारी रखा। इसे बनने में 16 साल लगे। शूटिंग के बीच ही 1968 में मीना को पता था कि वो ज्यादा दिन नहीं जी सकेंगी। लंदन से इलाज करवाकर लौटते ही मीना ने पांचवे दिन दोबारा पाकीजा की फाइनल शूटिंग पूरी की। 

पाकीजा का प्रीमियर 3 फरवरी 1972 में मराठा मंदिर थिएटर में हुआ। मीना कुमारी, पति कमाल अमरोही के साथ बैठीं। फिल्म देखने के बाद मीना के शब्द थे, मैं मान गई हूं कि मेरे पति एक मंझे हुए फिल्ममेकर हैं। अगले दिन पाकीजा रिलीज हुई। ये फिल्म ऑल टाइम ब्लॉकबस्टर थी। रिलीज के तीन हफ्ते बाद 28 मार्च को मीना को गंभीर हालत में अस्पताल ले जाया गया, जहां वो कोमा में चली गईं। ठीक 3 दिन बाद 31 मार्च को मीना कुमारी का निधन हो गया।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.