एक और ज्वेलरी कंपनी लाएगी आईपीओ, जोयालुक्कास जुटाएगी 2,300 करोड़

मुंबई- केरल कीज्वैलरी रिटेल चेन कंपनी जोयालुक्कास का इनिशियल पब्लिक आफरिंग (IPO) लाने का प्लान है। इसके लिए मार्केट रेगुलेटर सेबी (SEBI) के पास दस्तावेज (DRHP) जमा कराए हैं।  

DRHP के मुताबिक गोल्ड रिटेन चेन कंपनी का IPO के जरिए करीब 2,300 करोड़ रुपये जुटाने की योजना है। IPO से मिलने वाली रकम का इस्तेमाल कंपनी अपना कर्ज कम करने में करेगी। वहीं कुछ रकम का इस्तेमाल नए शोरूम खोलने में किया जाएगा। 28 फरवरी 2022 तक कंपनी पर कुल कर्ज 1524 करोड़ रुपये था। इसके पहले इस सेक्टर से टाटा ग्रुप की टाइटन और कल्याण ज्वेलर्स भी बाजार में लिस्टेड कंपनियां हैं।

जोयालुक्कास के भारत में 68 शहरों में कुल 85 शोरूम हैं। इनमें से 6 शोरूम का एरिया 8000 वर्गफिट या इससे ज्यादा है। चेन्नई स्थ्ति एक शोरूम का एरिया 13000 वर्गफिट है, जो सबसे बड़ा है। जोयालुक्कास का नाम उन 5 भारतीय ज्वैलरी ब्रांड में शामिल है, जिन्होंने दुनिया भर में टॉप 100 लग्जरी कंपनियों की लिस्ट में जगह बनाई है। 

कंपनी के पास गोल्ड, हीरे और अन्य कीमती पत्थरों मसलन प्लेटिनम और चांदी से बने गहनों की इन्वेंट्री है। इसके प्रोडक्ट प्रोफाइल में ट्रेडिशनल, कंटेमपरेरी और कॉम्बिनेशन डिजाइन शामिल हैं। हर शोरूम में इसके गोल्ड, डायमंड और अन्य ज्वैलरी की इन्वेट्री में रिजनल कस्टमर प्रीफरेंस और अलग अलग डिजाइन मिल जाएंगी। कंपनी का फोकस इनोवेशन पर और डिजाइन पर है।  

इसके अलावा क्वालिटी, मार्केट ट्रेंड और ग्राहकों की पंसद पर भी कंपनी का फोकस है। सितंबर 2021 तक वित्त वर्ष के पहले 6 महीने में कंपनी का रेवेन्यू एक साल पहले के 2,088 करोड़ रुपये के मुकाबले 4,012.26 करोड़ रुपये था। इस अवधि में शुद्ध लाभ 268 करोड़ रुपये रहा, जो पिछले साल समान अवधि में 248.61 करोड़ रुपये था। 

उधर, मटन निर्यात करने वाली कंपनी HMA एग्रो इंडस्ट्रीज भी अपना आईपीओ लाने जा रही है। कंपनी ने इसके लिए मार्केट रेगुलेटर सेबी (SEBI) के पास ड्राफ्ट पेपर दाखिल कर दिया है। कंपनी इस आईपीओ के ज़रिए 480 करोड़ रुपये जुटाना चाहती है। इस आईपीओ के तहत, 150 करोड़ रुपये तक के फ्रेश शेयर जारी किए जाएंगे। वहीं, कंपनी के प्रमोटरों द्वारा, 330 करोड़ रुपये तक के इक्विटी शेयरों की बिक्री ऑफर फॉर सेल (OFS) के तहत की जाएगी। 

ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (DRHP) के अनुसार, ओएफएस के हिस्से के रूप में वाजिद अहमद द्वारा 120 करोड़ रुपये तक के शेयरों की बिक्री की जाएगी। वहीं, गुलजार अहमद, मोहम्मद महमूद कुरैशी, मोहम्मद अशरफ कुरैशी और जुल्फिकार अहमद कुरैशी में से प्रत्येक के द्वारा 49 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे जाएंगे। इसके अलावा परवेज आलम 14 करोड़ रुपये के शेयर बेचेंगे। 

आगरा स्थित यह फर्म भारत में फ्रोजन बफैलो मीट प्रोडक्ट्स के सबसे बड़े निर्यातकों में से एक है। इसके प्रोडक्ट्स को दुनिया भर के 40 से अधिक देशों में निर्यात किया जाता है। इसकी 90 प्रतिशत से अधिक बिक्री निर्यात से होती है। मार्च 2021 को समाप्त वित्तीय वर्ष में, कंपनी का टैक्स के बाद प्रॉफिट 73 करोड़ रुपये रहा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.