फोकट में ज्ञान दिया तो जाएंगे जेल, जानिए इस देश का नया कानून 

मुंबई- ऑस्ट्रेलिया में अब युवाओं को फिजूल में वित्तीय ज्ञान देने और ज्यादा निवेश कर जल्द धनवान बनने के सपने दिखाने वालों की खैर नहीं। सरकार ने बिना लाइसेंस फाइनेंस टिप्स देने वालों के लिए 5 साल तक की जेल और जुर्माना का नियम बनाया है।  

दरअसल, पिछले साल हुए एक सर्वे में कहा गया कि 18 से 21 साल के 33% युवा फाइनेंशियल इन्फ्लुएंसर्स को फॉलो करते हैं। सर्वे में यह भी खुलासा हुआ कि ऑस्ट्रेलिया में 64% लड़कियां और लड़कों ने एक इन्फ्लुएंसर के चलते अपना वित्तीय व्यवहार बदल लिया। इसके चलते उन्हें नुकसान भी उठाना पड़ा। इसके बाद यह फैसला लिया गया है। 

द ऑस्ट्रेलियन सिक्योरिटीज एंड इन्वेस्टमेंट कमीशन (ASIC) का कहना है कि वित्तीय सलाह देने के लिए लाइसेंस लेना होगा। ASIC कमिश्नर कैथी आर्मर ने कहा, ”यह अत्यंत महत्वपूर्ण है कि वित्तीय सेवाओं और उत्पादों पर ऑनलाइन चर्चा करने या सलाह देने वाले सभी प्रभावशाली लोग फाइनेंशियल सर्विस लॉ का पालन करें। अगर वे ऐसा नहीं करते हैं और निवेशकों को जोखिम में डालते हैं तो उन पर कानूनी कार्रवाई होगी। इसमें 5 साल तक जेल और जुर्माना का प्रावधान है। इसके अलावा, वित्तीय उत्पादों के बारे में भ्रामक जानकारी देने या अफवाह फैलाने पर भी कार्रवाई होगी। 

फाइनेंशियल एडवाइजर डॉ. अमित चंद्रा बताते हैं कि मौजूदा वक्त में म्यूचुअल फंड, क्रिप्टो करेंसी में निवेश करने का चलन तेजी से बढ़ा है। अगर सही वक्त पर सही फंड में निवेश किया जाए तो लोगों को अच्छा मुनाफा भी होता हैं, लेकिन जिन्हें इस बारे में पता नहीं है, उनके पैसे डूब भी जाते हैं। इस दौरान बहुत सारे लोग यूट्यूब, इंस्टाग्राम और फेसबुक पर एक्टिव हैं, जो लोगों को वित्तीय सलाह दे रहे हैं। इनमें से कुछ लोगों को वास्तव में नॉलेज होती है, जबकि कुछ लोग अपने लाइक-कमेंट बढ़ाने के लिए ज्ञान दे रहे होते हैं। 

वीडियो और सोशल मीडिया पर देखकर निवेश करने वाले कई बार गलत फंड चुन लेते हैं और पैसा डूबने के बाद बुरी तरह कर्ज में फंस जाते हैं। इससे बचाने के लिए ऑस्ट्रेलियाई सरकार ने यह फैसला लिया है। हालांकि भारत में भी बाजार रेगुलेटर सेबी ने इस तरह का नियम बनाया है कि आप किसी भी तरह का फाइनेंशियल सलाह तभी दे सकते हैं जब आपने उससे संबंधित टेस्ट पास किया है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.