मंदिर के लिए बिहार के मुस्लिम ने दी ढाई करोड़ रुपए की जमीन   

मुंबई- पूर्वी चंपारण के चकिया-केसरिया के पास जानकीपुर में बिहार का सबसे भव्य मंदिर ‘विराट रामायण मंदिर’ बन रहा है। इस मंदिर के लिए कैथवलिया के इश्तियाक अहमद खान ने 23 कट्ठा (16560 वर्ग फीट) जमीन देकर एक मिसाल कायम की है। 

सरकारी कीमतों के हिसाब से जमीन की कीमत ढाई करोड़ रुपए से ज्यादा बताई जा रही है। 

इश्तियाक गुवाहाटी में कारोबारी हैं। इश्तियाक और उनके परिजन ने बीते बुधवार को पूर्वी चंपारण जिले के केसरिया रजिस्ट्री ऑफिस में 23 कट्ठा जमीन को विराट रामायण मंदिर के नाम रजिस्टर्ड करा दिया। 

इश्तियाक अहमद खान ने बताया- हमने देखा कि विराट रामायण मंदिर का काम जमीन की वजह से रुक रहा है, तो हमने कहा था कि हम जमीन फ्री में देंगे। हम राजनीति में नहीं हैं। इसलिए हमें हिंदू मुस्लिम की लड़ाई नहीं करनी है। खान परिवार ने विराट रामायण मंदिर बनाने के लिए सबसे पहले जमीन देने की शुरुआत की।  

महावीर मंदिर न्यास के सचिव आचार्य किशोर कुणाल ने बताया कि इसके पहले भी इश्तियाक अहमद खान के परिजन ने विराट रामायण मन्दिर के लिए जमीन लेने में बहुत सहयोग किया है। उन्होंने सबसे पहले मुख्य सड़क पर अपनी बेशकीमती जमीन किफायती दर पर मंदिर निर्माण के लिए दी। उसके बाद गांव के दूसरे लोगों ने भी प्रेरित होकर रियायती दरों पर जमीन देना शुरू किया। 

पूर्वी चंपारण के चकिया-केसरिया के पास जानकीपुर में ‘विराट रामायण मंदिर’ बन रहा है। मंदिर की खास बात इसकी ऊंचाई है। यह 270 फीट ऊंचा, 1080 फीट लंबा और 540 फीट चौड़ा होगा। पटना से 120 किलोमीटर दूर इस भव्य मंदिर को बनाने का कॉन्सेप्ट पटना के महावीर मंदिर के सचिव आचार्य किशोर कुणाल का है। किशोर कुणाल पूर्व IPS हैं।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.