आपके आधार में बदलाव करने पर डिजिलॉकर में ऑटो-अपडेट होगा 

मुंबई- डिजिलॉकर में सेव किए गए ड्राइविंग लाइसेंस में अपने पते को ऑटो अपडेट करने की मंजूरी पहले से ही है। अब आधार भी इसमें शामिल हो गया है। आधार कार्ड की जानकारी में किसी तरह का बदलाव करते हैं तो यह सीधे आपके डिजिलॉकर में अपडेट हो जाएगा।  

रिपोर्ट के अनुसार, अगला कदम पैन कार्ड है, जिसके लिए UIDAI कुछ तकनीकी चुनौतियों को हल करने के लिए आयकर विभाग के साथ काम कर रहा है। अभी उन लोगों को बदलाव की मंजूरी मिलती है जिनके पास डिजिलॉकर में उनके लाइसेंस हैं। साथ ही जो UIDAI और परिवहन मंत्रालय द्वारा जारी अपनी आधार जानकारी को अपडेट करने के बाद अपनी सहमति से अपने पते बदल सकते हैं।  

यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) और विभिन्न सरकारी विभाग ग्राहक द्वारा आधार में पता बदलने के बाद पैन जैसे अन्य डॉक्यूमेंट में बदलाव की मंजूरी देने की योजना बना रहे हैं। अभी तक पते में परिवर्तन के लिए वर्तमान में बैंकों और टैक्स पोर्टल सहित विभिन्न संगठनों के चक्कर लगाने की आवश्यकता होती है।  

हाल के महीने में, UIDAI बैंकों और गैर-बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों के साथ-साथ अन्य संस्थाओं के साथ काम कर रहा है ताकि अपने ग्राहकों को त्वरित सेवाएं प्राप्त हो सके। डिजिलॉकर का उपयोग मुख्य रूप से आपके व्हीकल रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट, पैन, बीमा पॉलिसीज, यूनिवर्सिटी सर्टिफिकेट और आपकी कुछ स्वास्थ्य जानकारी सहित विभिन्न कागजातों को स्टोर करने के लिए किया जाता है। 

सेंट्रलाइज्ड पोर्टल का उपयोग करके ऑनलाइन फॉर्म भरने के बाद, आपको ड्राइविंग लाइसेंस पर अपना पता अपडेट करने के लिए ट्रांसपोर्ट कार्यालय जाना होगा। परिवर्तन के परिणामस्वरूप ग्राहकों को अपना पता अपडेट करने के लिए अब कई कार्यालयों के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होगी।  

सरकार यह देख रही है कि आधार सरकारी विभागों और सार्वजनिक उपयोगिताओं के साथ इंटरफेस को कैसे आसान बना सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि चूंकि आधार का उपयोग केवल सीमित उद्देश्यों के लिए जरूरी है, इसलिए यूनीक आईडी अधिकांश सेवाओं के लिए स्वैच्छिक (voluntary) रहती है। इसके लिए डिजिलॉकर पर ग्राहक की मंजूरी (consent) की जरूरत होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.