सरकारी बैंक घाटे से उबरे, दो साल से दे रहे हैं लगातार फायदा 

मुंबई- सरकारी बैंकों के लिए अच्छे दिन हैं। चालू वित्तवर्ष यानी 2021 अप्रैल से लेकर दिसंबर तक की तीन तिमाहियों में सभी ने मिलकर कुल 48,874 करोड़ रुपए के फायदे कमाए हैं। मजे की बात यह है कि एक भी सरकारी बैंक अब घाटे में नहीं हैं।

सरकार ने संसद में बताया कि अप्रैल से दिसंबर के बीच किसी भी सरकारी बैंक को घाटा नहीं हुआ है। राज्य वित्तमंत्री भागवत कराड ने राज्यसभा में कहा कि 2020-21 में सरकारी बैंकों ने कुल 31,820 करोड़ रुपए का फायदा कमाया था। हालांकि 2015-16 से लेकर 2019-20 तक काफी सारे सरकारी बैंक घाटे में थे। 2017-18 में इन बैंकों का कुल घाटा 85,370 करोड़ रुपए था जो कि 2018-19 में कम होकर 66,636 करोड़ रुपए रह गया।

2019-20 में इन बैंकों को 25,941 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ जबकि 2015-16 में इनका घाटा 17,993 करोड़ रुपए था। 2016-17 में इनको 11,389 करोड़ रुपए का लॉस हुआ था। वित्तवर्ष 2009-10 से 2014-15 के दौरान सरकारी बैंक फायदे में थे। 31 मार्च 2010 से 31 मार्च 2021 के दौरान इन बैंकों की कुल शाखाओं की संख्या 58,653 से बढ़कर 84,694 हो गई। इसमें महानगरों में शाखाओं की संख्या 13,596 से बढ़कर 16,369 जबकि अर्धशहरी इलाकों में 14,959 से 23,347 हो गई।

बता दें कि इस समय देश में कुल 12 सरकारी बैंक हैं। इसमें सबसे बड़े बैंकों में भारतीय स्टेट बैंक (SBI), पंजाब नेशनल बैंक (PNB), यूनियन बैंक ऑफ इंडिया और बैंक ऑफ बड़ौदा के साथ कैनरा बैंक हैं। इसमें से चार बैंकों को दूसरे बैंकों में मिलाए जाने की तैयारी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.