रिलायंस और अमेजन के बीच लड़ाई और तेज हुई, बातचीत विफल 

मुंबई- रिलायंस और अमेजन के बीच लड़ाई तेज हो गई है। मंगलवार को कंपनियों के वकील ने सुप्रीम कोर्ट पर दलील दी कि क्या फ्यूचर के रिटेल असेट्स को रिलायंस इंडस्ट्रीज को बेचा जा सकता है। साथ ही अमेजन और फ्यूचर दोनों ने कहा कि वे सिंगापुर में मध्यस्थता की कार्यवाही फिर से शुरू करना चाहेंगे जिसे दिल्ली उच्च न्यायालय ने रोक दिया था।  

अमेजन इंक ने मंगलवार को अखबारों में विज्ञापन दिया। इसने फ्यूचर रिटेल और रिलायंस पर ‘धोखाधड़ी’ का आरोप लगाया गया। अमेजन फ्यूचर ग्रुप की रिटेल एसेट्स की रिलायंस को करीब 26 हजार करोड़ रुपए की बिक्री के प्लान का विरोध कर रही है। जिसकी सुनवाई भारतीय सुप्रीम कोर्ट में चल रही है। 

“सार्वजनिक नोटिस” शीर्षक वाले विज्ञापनों में, अमेजन का कहना है कि “इन कार्यों को भारत में संवैधानिक अदालतों पर धोखाधड़ी करके गुप्त तरीके से किया गया है। बल्कि अब उनके पास रिटेल सेलर्स को खरीदने के लिए 3.4 बिलियन डॉलर के लड़ाई में सभी कार्ड हैं।” हालांकि अभी तक अमेजन इस कदम पर फ्यूचर और रिलायंस ने तुरंत जवाब नहीं दिया। 

रिलायंस ग्रुप के मालिक मुकेश अंबानी और जेफ बेजोस के बीच की जंग दिलचस्प होती जा रही है। बिग बाजार चलाने वाली कंपनी फ्यूचर के टेक ओवर और भारतीय रिटेल मार्केट पर कब्जा करने के लिए दोनों के बीच पिछले 2 साल से लड़ाई चल रही है। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने हाल ही में बिग बाजार के स्टोर्स का कंट्रोल अपने हाथों में लेना शुरू कर दिया। इसके जवाब में अमेजन भी अपनी कार्रवाई कर रही है।

साल 2019 में अमेजन ने 1500 करोड़ रुपए में फ्यूचर कूपन (फ्यूचर ग्रुप की होल्डिंग कंपनी) में 49% हिस्सेदारी खरीदी थी। इस डील के तहत अमेजन को 3 से 10 साल के भीतर फ्यूचर रिटेल में हिस्सेदारी खरीदने का भी अधिकार मिला था।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.