रिजर्व बैंक ने दिया पेटीएम को झटका, कहा नए ग्राहक नहीं जोड़ सकता 

मुंबई- शेयरों की भारी गिरावट के बाद पेटीएम को जबरदस्त झटका लगा है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कंपनी को अब नए ग्राहक जोड़ने पर रोक लगाने के आदेश दिए।  

RBI ने बैंक को IT सिस्टम ऑडिट (comprehensive System Audit) के लिए ऑडिट फर्म अपॉइंट करने के लिए भी कहा है। IT ऑडिटर्स की रिपोर्ट देखने के बाद RBI यह तय करेगा की पेटीएम को नए ग्राहकों को जोड़ने की अनुमति देना है या नहीं। RBI ने मटेरियल सुपरवाइजरी से जुड़ी चिंताओं के आधार पर ये रोक लगाई है।  

यह दूसरी बार है जब नियामक ने पेमेंट्स बैंक के खिलाफ सख्ती बरती है। अगस्त 2018 में, RBI ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक के खिलाफ इसी तरह की कार्रवाई की थी। उस समय नियामक ने नो योर कस्टमर नॉर्म्स के उल्लंघन का हवाला दिया था। 

पेटीएम पेमेंट्स बैंक के जरिए दिसंबर में 92.6 करोड़ से ज्यादा UPI ट्रांजैक्शन किए गए। अक्टूबर से दिसंबर 2021 तिमाही में, पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने 159.85% की ग्रोथ के साथ 250.74 करोड़ बेनिफिशियरी ट्रांजैक्शन रजिस्टर किए। एक साल पहले की समान तिमाही में ये संख्या 96.45 करोड़ थी। 

पेटीएम की वेबसाइट के अनुसार उसके पास 30 करोड़ से ज्यादा वॉलेट और 6 करोड़ बैंक अकाउंट हैं। पेटीएम पेमेंट्स बैंक अपने ग्राहकों को जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट, स्पेंड एनालिटिक्स, डिजिटल पासबुक, वर्चुअल डेबिट कार्ड, फिक्स्ड डिपॉजिट, मनी ट्रांसफर की सुविधा देता है। 

2017 में पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक का उदघाटन किया था। पेटीएम ने अपनी पहली ब्रांच नोएडा में खोली और सेविंग अकाउंट की शुरुआत की। 2018 में फिजिकल डेबिट कार्ड लॉन्च किया और DMT, नोडल अकाउंट और NACH की शुरुआत की। 2019 में करंट अकाउंट की भी सुविधा देना शुरू किया। 2020 से पेटीएम पेमेंट्स बैंक में वीडियो KYC की सुविधा मिलने लगी। बैंक ने ऑन डिमांड FD की भी शुरुआत की। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.