सबसे कम समय में LIC के इश्यू को मंजूरी, केवल 23 दिन में क्लीयर हुआ IPO 

मुंबई- देश का सबसे बड़ा IPO लेकर आ रही भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) ने एक और रिकॉर्ड बनाया है। इसके इश्यू को केवल 23 दिनों में सेबी से मंजूरी मिल गई। यह अब तक का ऐतिहासिक रिकॉर्ड है।  

इससे पहले मिसेज बैक्टर्स के इश्यू को 30 दिन में मंजूरी मिली थी। तब वह रिकॉर्ड था। इसका इश्यू 2020 में नवंबर में आया था। इसने 541 करोड़ रुपए जुटाए थे। सरकारी कंपनी रेलटेल कॉर्प के IPO को अक्टूबर 2020 में 32 दिन में मंजूरी मिली थी। इसने 819 करोड़ रुपए जुटाए थे। सेवन आइसलैंड का इश्यू 35 दिन में क्लीयर हुआ था। इसका साइज 600 करोड़ का था।  

इसी तरह से रियल्टी कंपनी मैक्रोटेक के इश्यू को 35, पारादीप को 37, इंडियन रेलवे फाइनेंस को 39, क्राफ्ट्समैन को 43 और अमी ऑर्गेनिक्स को 44 दिन में सेबी की मंजूरी मिली थी। एंटोनी को 45 दिनों में, विजया डायग्नोस्टिक को 46 और केम स्पेशियालिटी को 47 दिनों में सेबी ने मंजूरी दिया था। यह सभी इश्यू 2020 से 2021 के दौरान आए थे। इसमें सबसे ज्यादा रकम इंडियन रेलवे ने 4,633 करोड़ और सबसे कम रकम 300 करोड़ एंटोनी ने जुटाए थे।  

अमूमन सेबी किसी भी इश्यू के लिए एक से दो महीने का समय लेता है। हालांकि दो महीने का समय बहुत ही कम मामलों में लिया जाता है। पर LIC के मामले में इसने केवल 23 दिन ही लिया और इसे पास कर दिया। LIC ने 13 फरवरी को सेबी के पास मसौदा (DRHP) जमा कराया था और इसी हफ्ते इसे मंजूरी मिल गई।  

LIC कंपनी में 5% हिस्सा बेचकर 63 हजार करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी में है। हालांकि बाजार में इस समय रूस और यूक्रेन की लड़ाई की वजह से चल रहे उथल-पुथल से यह इश्यू अगले महीने तक टलने की संभावना है। ऐसा माना जा रहा है कि इसके IPO पर बाजार की गिरावट का असर दिख सकता है।  

उधर, इन्वेस्टमेंट बैंकर्स का कहना है कि LIC के इश्यू को जल्दीबाजी में नहीं लाना चाहिए, क्योंकि बाजार की स्थिति अभी इस तरह की नहीं है। वैसे वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि वे इस बात पर चर्चा कर रही हैं कि कब तक इसे लाया जा सकता है। सेबी ने दर्जनों इश्यू को मंजूरी दी है और यह सभी अगले महीने या फिर मई तक के लिए टाल दिए गए हैं।  

सेबी से मंजूरी मिलने के बाद अब LIC का अगला प्रोसेस प्राइस बैंड को तय करना होगा। LIC बोर्ड और इन्वेस्टमेंट बैंकर्स मिलकर इसे करेंगे। कंपनी ने अपना रोड शो पूरा कर लिया है और अब वह आगे की तैयारी कर रही है। जानकारों का मानना है कि बाजार की खराब स्थितियों का सीधा असर रिटेल और बड़े निवेशकों पर दिखेगा, जिससे इस इश्यू को कम रिस्पांस मिल सकता है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.