38 कंपनियों के आईपीओ को मिली सेबी की मंजूरी

मुंबई- शेयर बाजार के दिग्गज इस बात को लेकर आश्वस्त है कि 2022 भी प्राइमरी मार्केट के लिए एक शानदार साल रहेगा। इस साल में एलआईसी सहित कई बड़े आईपीओ धमाल मचाते नजर आएंगे। 38 कंपनियों के आईपीओ को सेबी ने मंजूरी दे दी है।

बाजार जानकारों को अब तक मंजूरी के लिए लाइन में लगे आईपीओ की बढ़ती संख्या से भी बूस्ट मिल रहा है। अब तक जितने आईपीओ को मंजूरी मिली है और जितने मंजूरी का इंतजार कर रहे हैं उनका नंबर लगभग बराबर है। आंकड़ों पर नजर डालें तो अब तक 38 कंपनियों के आईपीओ को सेबी से मंजूरी मिल चुकी है जबकि 36 कंपनियों के आईपीओ को सेबी से मंजूरी का इंतजार है।

एक्सिस कैपिटल ने जनवरी की शुरुआत में आई अपनी रिपोर्ट में कहा है कि अभी तक सेबी ने 37 आईपीओ के लिए ऑब्जर्वेशन जारी कर दिया है जबकि 37 आईपीओ के पेपर सेबी में दाखिल किए गए हैं जिनको सेबी की हरी झंडी का इंताजर है। बाजार जानकारों का कहना है कि कैलेंडर ईयर 2022 के पहली तिमाही में 20 कंपनियों अपने आईपीओ ल़ॉन्च कर सकती हैं।

इन कंपनियों में एमक्योर फार्मा, ESDS साफ्टवेयर, AGS ट्रांजैक्ट, अडाणी विल्मर, ESAF स्माल फाइनेंस बैंक,गो एयरलाइंस, आरोहण फाइनेंशियल, प्रदीप फास्फेट्स, वन मोबिक्विक आदि हैं। इसके अलावा एलआईसी का 70,000-1,00,000 करोड़ रुपए का देश का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ वर्तमान तिमाही में ही आ सकता है। हालांकि एलआईसी ने अभी तक अपने आईपीओ के ड्राफ्ट पेपर सेबी में नहीं दाखिल किए हैं।

जानकारों का कहना है कि अगर प्राइमरी मार्केट में इसी तरह का जोश जारी रहा तो कैलेंडर ईयर 2022 आईपीओ के लिए रिकॉर्ड ब्रेकिंग ईयर हो सकता है। उन्होंने आगे कहा कि 2020 की आईपीओ पाइपलाइन काफी मजबूत है। अभी तक 30 से ज्यादा आईपीओ को मंजूरी मिल चुकी है और इससे ज्यादा मंजूरी के लाइन में लगे हैं।

2022 में फ्लिपकार्ट, ओला, और डेलहीवरी जैसे टेक कंपनियों के आईपीओ आ सकते हैं। 2022 आईपीओ बाजार के लिए 2021 की तुलना में बेहतर रहेगा। क्योंकि 2021 में नायका, जोमैटो और पेटीएम के ऑफर के जरिए बाजार इनकी जांच कर चुका है। ऐसे में फार्मइजी, डेलहीवरी, मोबिक्विक, ओला और ओयो जैसी नए जनरेशन की कंपनियां बाजार में लिस्टिंग की तैयारी के लिए कमर कस रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *