राजकुमार बन सकते हैं LIC प्रमुख, एम.आर कुमार इरडाई चेयरमैन की रेस में

मुंबई- देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) के वर्तमान चेयरमैन इरडाई में जा सकते हैं। जबकि इसके अभी के MD को कंपनी का चेयरमैन बनाया जा सकता है।  

बीमा रेगुलेटर इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) के चेयरमैन चेयरमैन सुभाषचंद्र खुंतिया मई में रिटायर हो गए थे। अप्रैल में इस पद के लिए आवेदन मंगाए जा चुके थे। हालांकि 8 महीने बीतने के बाद भी सरकार ने इस पर कोई फैसला नहीं किया। जबकि इसके लिए 20 से ज्यादा अधिकारियों ने अप्लाई किया है। इस पद के लिए 4.5 लाख रुपए महीने की सैलरी दी जाती है। 

अप्लाई करनेवालों में खुद LIC चेयरमैन M.R कुमार भी थे। एम.आर कुमार LIC से जून में रिटायर होने वाले थे, लेकिन सरकार ने उन्हें विस्तार दे दिया था। उनका कार्यकाल 9 महीने बढ़ाया गया था। उनका 9 महीने का कार्यकाल 13 मार्च को खत्म होगा। उसी के साथ 62 साल की उम्र तक उनको इस पद पर रहने का आदेश जारी कर दिया गया था।  

सरकार इरडाई के पद को पिछले 8 महीने से इसलिए खाली रखी है, क्योंकि वह एम.आर. कुमार को चेयरमैन बनाना चाहती है। जनवरी में ही LIC के MD राजकुमार रिटायर होने वाले हैं। वे इस समय इसके चार MD में सबसे सीनियर हैं। LIC के चार MD में इस समय मिनी आइप, राजकुमार, एस.के मोहंती और बी.सी. पटनायक हैं। जनवरी या फरवरी में दिनेश भगत MD बनेंगे, क्योंकि उस समय एक MD का पद खाली हो जाएगा। LIC का असेट साइज 32 लाख करोड़ रुपए है। 

अब अगर कुमार इरडाई में जाते हैं तो सीधे तौर पर राजकुमार को LIC चेयरमैन बनाया जा सकता है। क्योंकि चेयरमैन का कार्यकाल अब 62 साल है और राजकुमार के पास दो साल अभी भी बचा है। साथ ही राजकुमार ही LIC के IPO को देख रहे हैं जो जनवरी से मार्च के दौरान आएगा। यह देश का सबसे बड़ा इश्यू है।  

सरकार ने इसी साल में बैंकों के कम से कम 10 अधिकारियों को सेवा विस्तार दे दिया। पहले तो बैंकिंग सेक्टर के रेगुलेटर रिजर्व बैंक (RBI) के गवर्नर को 3 साल का सेवा विस्तार मिला। उससे पहले बाजार और म्यूचुअल फंड रेगुलेटर सेबी के चेयरमैन को सेवा विस्तार मिला। देश के सबसे बड़े बैंक SBI के भी चेयरमैन को सेवा विस्तार मिला था, जिसके बाद रजनीश कुमार रिटायर हुए थे।  

बैंक ऑफ बड़ौदा, कैनरा बैंक और बैंक ऑफ इंडिया के ED का भी कार्यकाल बढ़ाया गया है। इनके साथ पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक इंडियन बैंक, सेंट्रल बैंक सहित कई बैंकों के ED के कार्यकाल बढ़ाए गए।  

इनके अलावा अगस्त में अपॉइंटमेंट्स कमिटी ऑफ कैबिनेट (ACC) ने तीन बैंकों के MD एवं CEO के कार्यकाल को बढ़ाने को मंजूरी दी थी। इसके साथ ही बैंकों के 10 कार्यकारी निदेशकों (ED) का भी कार्यकाल बढ़ाया गया। जिन MD का कार्यकाल बढ़ा, उसमें पंजाब नेशनल बैंक के एस.एस मल्लिकार्जुन का 31 जनवरी 2022 तक बढ़ाया गया। यूको बैंक के MD अतुल गोयल और बैंक ऑफ महाराष्ट्र के MD ए.एस राजीव का कार्यकाल 2-2 साल बढ़ाया गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *