IRCTC, SBI के शेयर्स में भारी तेजी सेंसेक्स 62000 की ओर, दीवाली तक 64000 जा सकता है

मुंबई- भारतीय बाजार लगातार सातवें दिन तेजी में है। बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का सेंसेक्स 62 हजार को आज या कल पार कर जाएगा। दीवाली तक यह 64 हजार के पार जा सकता है। निफ्टी ने 18,500 के आंकड़े को टच किया है।

जानकारों के मुताबिक, दीवाली से पहले सेंसेक्स 64 हजार को टच कर सकता है। उनका कहना है कि इसके कई कारण हैं। एक तो इकोनॉमी में रिकवरी, दूसरे लगातार कोरोना के केस कम हो रहे हैं। इसके अलावा नई कंपनियों की धमाकेदार लिस्टिंग और रिटेल निवेशकों की भागीदारी भी बाजार की तेजी का एक कारण है।

अगले 3-4 महीने बाजार की तेजी में कई कारण अहम भूमिका निभाएंगे। आज बाजार में जबरदस्त तेजी है। सेंसेक्स 650 अंकों की तेजी के साथ 61,962 अंक तक पहुंच गया था। मार्केट कैप 276 लाख करोड़ रुपए हो गया है। बाजार की तेजी में योगदान देने वालों में HDFC बैंक, IRCTC, रिलायंस इंडस्ट्रीज, SBI, टाटा मोटर्स, अडाणी ट्रांसमिशन और अवेन्यू सुपर मार्ट जैसे शेयर हैं।

टाटा मोटर्स का शेयर 517 रुपए पर जबकि डीमार्ट चलाने वाली अवेन्यू सुपर मार्ट का शेयर एक साल के हाई पर पहुंच गया है। IRCTC का शेयर आज 4% की बढ़त के साथ 5,680 रुपए तक चला गया। यह शेयर हर दिन नई ऊंचाई बना रहा है। इसका मार्केट कैप 92 हजार करोड़ रुपए के पार हो गया है। अनुमान है कि जल्द ही IRCTC एक लाख करोड़ रुपए के मार्केट कैप को हासिल कर सकती है।
अवेन्यू सुपर मार्ट का शेयर 5,899 रुपए पर कारोबार कर रहा है। गुरुवार को यह 5,329 रुपए पर बंद हुआ था। SBI का शेयर 500 रुपए के करीब है। इसका मार्केट कैप 4.41 लाख करोड़ रुपए है।

अन्य शेयर्स की बात करें तो NHPC का शेयर 13.60% ऊपर 35 रुपए पर कारोबार कर रहा है जबकि हिंदुस्तान जिंक का शेयर 12.84% बढ़कर 391 रुपए पर है। वेदांता लिमिटेड का शेयर 12% ऊपर 370 रुपए पर है जबकि नेशनल अल्युमिनियम का शेयर 11% ऊपर 119 रुपए पर है। HDFC बैंक का शेयर एक साल के हाई पर है। यह 1,734 रुपए पर पहुंच गया है। मार्केट कैप 9.40 लाख करोड़ रुपए हो गया है। टाटा पावर का शेयर 18% ऊपर 262 रुपए पर कारोबार कर रहा है।

कच्चे तेल की कीमतें रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गई हैं। कच्चे तेल की कीमतें 86 डॉलर प्रति बैरल के करीब पहुंच गई है। यह अक्टूबर 2018 के बाद सबसे ज्यादा प्राइस है। चीन की अर्थव्यवस्था सितंबर तिमाही में 4.9% बढ़ी है। 2020 की सितंबर तिमाही में चीन की अर्थव्यवस्था 7.9% की दर से बढ़ी है। इसी तरह ग्लोबल इकोनॉमिक रिकवरी भी चिंता का विषय बनी हुई है।

विदेशी निवेशकों ने अक्टूबर में अब तक बाजार से 1,472 करोड़ रुपए निकाल लिए हैं। इस साल अप्रैल से देखें तो बाजार के मार्केट कैप में 75 लाख करोड़ रुपए की बढ़त हुई है। 19 अप्रैल को 201 लाख करोड़ रुपए मार्केट कैप था। इसमें ए ग्रुप का 192 और बी ग्रुप का मार्केट कैप 6.86 लाख करोड़ रुपए था। 18 अक्टूबर को मार्केट कैप 276 लाख करोड़ रुपए हो गया। इसमें ए ग्रुप का 250 लाख करोड़ और बी ग्रुप का 15 लाख करोड़ रुपए मार्केट कैप है। महीने के अनुसार देखें तो मई में मार्केट कैप 223 लाख करोड़ रुपए, जून में 229 लाख करोड़, जुलाई में 235 लाख करोड़, अगस्त में 250 लाख करोड़ और सितंबर में 260 लाख करोड़ रुपए हो गया था।

आंकड़े बताते हैं कि विदेशी निवेशकों ने सबसे ज्यादा निवेश निफ्टी के 11 से 12 हजार पहुंचने के दौरान किया था। इस दौरान विदेशी निवेशकों ने 77 हजार करोड़ रुपए का निवेश किया था। हालांकि म्यूचुअल फंड हाउसों ने इसी दौरान सबसे ज्यादा रकम बाजार से निकाली थी। उन्होंने 35,227 करोड़ रुपए निकाल लिए थे। निफ्टी 11 से 12 हजार 77 दिनों में गया था। हालांकि 12 से 13 हजार जाने में निफ्टी को सबसे कम केवल 13 दिन लगे थे। तब विदेशी निवेशकों ने 52 हजार करोड़ और निफ्टी के 13 से 14 हजार जाने में 65,477 करोड़ रुपए का निवेश किया था। निफ्टी के 17 से 18 हजार जाने में केवल 7 हजार करोड़ रुपए का निवेश इन निवेशकों ने किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *