टाटा मोटर्स के शेयर से झुनझुनवाला ने तीन दिन में कमाए 324 करोड़ रुपए

मुंबई- बिग बुल राकेश झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो में शामिल टाटा मोटर्स के शेयर पिछले तीन कारोबारी दिनों में करीब 24 फीसदी मजबूत हुए हैं। टाटा मोटर्स के शेयरों को लेकर न सिर्फ घरेलू ब्रोकरेज फर्म बल्कि विदेशी ब्रोकरेज फर्म भी बुलिश हैं। पैसेंजर व कॉमर्शियल वेहिकल्स सेग्मेंट में बढ़ती हिस्सेदारी और वॉल्यूम एक्टिविटी में उछाल के चलते मार्केट एक्सपर्ट्स इस स्टॉक को लेकर पॉजिटिव हैं।  

मंगलवार को इसके शेयर 2 फीसदी की तेजी के साथ 422 रुपये के भाव पर पहुंच गए। यह कंपनी भारत में पैसेंजर व कॉमर्शियल वेहिकल्स और विदेशों में लग्जरी वेहिकल्स की बिक्री करती है। झुनझुनवाला ने टाटा मोटर्स के शेयरों की खरीदारी उस समय की थी, जब इसके शेयर महामारी के दौरान पिट रहे थे। झुनुझनुवाला ने सितंबर 2020 में इसके 4 करोड़ शेयर खरीदे थे। इस साल जून 2021 के अंत तक झुनझुनवाला की कंपनी में 1.14 फीसदी हिस्सेदारी थी यानी कि उनके पास 3.77 करोड़ इक्विटी शेयर थे।  

अगर मान लें कि उन्होंने जून के बाद अपनी हिस्सेदारी कम नहीं की है तो महज तीन कारोबारी दिनों में ही इस स्टॉक में तेजी के चलते झुनझुनवाला को 324 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ है। वर्षों तक अंडरपरफॉर्मंस के बाद अब एनालिस्ट्स का मानना है कि टाटा मोटर्स निफ्टी ऑटो इंडेक्स की तेजी को पकड़ सकता है।  

ब्रोकरेज फर्म का अनुमान है कि वित्त वर्ष 2022-23 तक कंपनी का रेवेन्यू 20.9 फीसदी के सीएजीआर (कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट) से बढ़ सकता है। टाटा मोटर्स की भारतीय इकाई ने तिमाही आधार पर जुलाई-सितंबर 2021 में 49 फीसदी अधिक बिक्री की। कॉमर्शियल वेहिकल्स की बिक्री में 73 फीसदी की उछाल रही। वहीं पैंसेजर वैहिकल चिप की बिक्री किल्लत की बावजूद दस साल में सबसे अधिक रही। जुलाई-सिंतबर 2021 में कंपनी ने 84 हजार यूनिट्स पैसेंजर वेहिकल की बिक्री की। 

एनालिस्ट्स ने इसका टारगेट प्राइस संशोधित कर 450 रुपये के भाव पर तय किया है। ब्रोकरेज फर्म का मानना है कि ऑटो सेक्टर में तेजी का टाटा मोटर्स को फायदा मिलेगा। बुल केस में मॉर्गेन स्टैनले का मानना है कि टाटा मोटर्स के कॉमर्शियल वेहिकल का रेवेन्यू 30 फीसदी और पैसेंजर वेहिकल्स का रेवेन्यू 45 फीसदी के सीएजीआर से बढ़ सकता है। चिप की किल्लत के चलते जगुआर लैंड रोवर की सप्लाई में दिक्कतें आईं जिससे ईबीआईटी मार्जिन प्रभावित हो सकता है और कैश आउटफ्लो बढ़ सकता है। अधिकतर लोगों को चिप शॉर्टेज को लेकर जानकारी है जिसका असर शेयर भाव पर दिख सकता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *