सरकार ने कहा, सांसदों को मुफ्त में चाय और कॉफी दें एयरलाइंस कंपनियां

मुंबई- एअर इंडिया के निजीकरण के बाद सरकार को एयरपोर्ट और फ्लाइट में सांसदों के VIP ट्रीटमेंट की चिंता सता रही है। सरकार ने एअर इंडिया समेत सभी एयरलाइंस कंपनियों को लेटर लिखा है, जिसमें सांसदों को स्पेशल ट्रीटमेंट देने की बात कही है। सरकार ने सभी एयरलाइन, एयरपोर्ट ऑपरेटर्स और विमानन सुरक्षा नियामक को एयरपोर्ट पर संसद सदस्यों (सांसदों) को प्रोटोकॉल, शिष्टाचार और सपोर्ट देने को कहा है। 

केंद्रीय उड्डयन मंत्रालय द्वारा 21 सितंबर, 2021 को लिखे गए एक लेटर में कहा गया है कि एयरपोर्ट पर सांसदों को प्रोटोकॉल,शिष्टाचार और समर्थन देने के लिए समय-समय पर निर्देश जारी किए गए हैं। एयरपोर्ट्स पर माननीय सांसदों को प्रोटोकॉल और शिष्टाचार के संबंध में लापरवाही के कुछ मामले सामने आए हैं। इसी के चलते निर्देशों को फिर से दोहराया जा रहा है और सभी संबंधितों से अनुरोध किया जाता है कि वे इसका सही से पालन करें। 

इस लेटर में उस प्रोटोकॉल के बारे में बताया गया है जिसका एअर इंडिया को पालन करना है। हालांकि ये प्रोटोकॉल प्राइवेट एयरलाइंस के लिए नहीं था। लेटर के अनुसार सीट बुकिंग में सांसदों को प्राथमिकता देनी होगी। इसके अलावा अगर सीट खाली नहीं है, तो बुकिंग कैंसिल होने पर इसे सबसे पहले सांसद को देना होगा। 

एयरपोर्ट पर मौजूद सीनियर स्टाफ को सांसद के चेक-इन करते समय सुविधा और सहयोग देने को कहा है। सांसद को उसकी पसंद की सीट दी जानी चाहिए। सांसदों के लिए आगे वाली लाइन में सीटें आरक्षित करने की कोशिश करनी चाहिए। अगर कोई सांसद एअर इंडिया में यात्रा करने वाला है, तो इसकी जानकारी पहले से संबंधित एयरपोर्ट के अधिकारियों को दी जानी चाहिए, ताकि उनके लिए उचित व्यवस्था की जा सके। 

एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI) और एयरपोर्ट संचालकों को सांसदों को मुफ्त चाय, कॉफी और पानी के साथ लाउंज सुविधा देने को भी कहा है। सांसदों के लिए VIP पार्किंग का इंतजाम किया जाना चाहिए। इसके लिए संसद भवन के कार पार्किंग पास को मान्य किया जाना चाहिए। सभी एयरपोर्ट पर एक प्रोटोकॉल अधिकारी नियुक्त करना चाहिए जो सांसदों को विशेष सुविधा दिलाने में मदद करेगा। सिक्योरिटी चेकिंग के दौरान सांसदों को परेशानी का सामना न करना पड़े, इसके लिए CISF और एयरलाइंस आपस में कोऑर्डिनेट करें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *