इमामी एग्रोटेक का चौथा प्लांट कांडला में 25 हजार करोड़ टर्नओवर का लक्ष्य

मुंबई- इमामी एग्रोटेक ने 2025 तक 25 हजार करोड़ रुपए के टर्नओवर का लक्ष्य रखा है। इमामी एग्रोटेक मूलरूप से खाने के तेल और बायोडीजल की विविधीकृत यानी कई कारोबार में शामिल कंपनी है। यह FMCG सेक्टर की मेजर कंपनी इमामी ग्रुप की कंपनी है। 

कंपनी ने कहा कि इमामी ने गुजरात के कांडला में अपना नया प्लांट शुरू किया है। कांडला रिफाइनरी की प्रोडक्शन क्षमता 3200 टन प्रति दिन की है। कंपनी की भारत में यह चौथी प्रोडक्शन यूनिट है। यह प्लांट खाने के तेल का प्रोडक्शन करेगा। नए प्लांट से कंपनी अपने रोडमैप को तैयार करेगी। यह खाने के तेल के साथ फूड सेगमेंट और बिजनेस के लक्ष्यों को प्राप्त करने पर फोकस करेगी।  

कंपनी की कुल तीन प्रोडक्शन यूनिट थीं। इसमें से एक प्रोडक्शन यूनिट हल्दिया में है जबकि दूसरी कृष्णापट्‌टनम और तीसरी जयपुर में है। कांडला प्लांट के साथ ही इमामी एग्रोटक की खाने के तेल की प्रोडक्शन क्षमता 12 हजार टन प्रति दिन की हो जाएगी। इससे पहले यह क्षमता 9 हजार टन प्रतिदिन की थी। इमामी एग्रोटेक रिफाइंड पाम ऑयल, रिफाइंड सोयाबीन ऑयल और वैल्यू एडेड प्रोडक्ट जैसे वनस्पति और बेकरी फैट्स का उत्पादन कांडला रिफाइनरी से करेगी।  

इमामी ग्रुप के डायरेक्टर आदित्य अग्रवाल ने कहा कि इमामी एग्रोटेक एक यंग कंपनी है और यह डायनॉमिक और आक्रामक बिजनेस रणनीति का पालन शुरू से कंपनी है। अगले तीन सालों में हम 1000-1500 करोड़ रुपए का निवेश करेंगे। इसके जरिए लीडिंग फूड ब्रांड के रूप में हम उभर सकते हैं। कांडला प्लांट के शुरू होने से हमें हमारे लक्ष्यों को राष्ट्रीय स्तर पर पूरा करने में मदद मिलेगी। हमारा फोकस 25 हजार करोड़ रुपए के टर्नओवर के लक्ष्य को 2025 तक पूरा करना है। हम लगातार नई कैटेगरी में प्रवेश कर रहे हैं।  

इमामी ग्रुप के डायरेक्टर मनीष गोयनका ने कहा कि कांडला का प्लांट 600 करोड़ रुपए का ग्रीनफील्ड प्रोजेक्ट है। यह 54 एकड़ जमीन पर बना है। इस प्लांट के जरिए 2 हजार लोगों को डायरेक्ट और इनडायरेक्ट रोजगार मिलेगा। इसे डेढ़ साल में ही शुरू कर दिया गया। वह भी ऐसे समय में, जब कोरोना की चुनौतियों से बिजनेस बंद थे। इसके जरिए हम ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों तक पहुंच बनाने में सफल होंगे। इसके जरिए उत्तरी और पश्चिमी बाजारों में हमारी पहुंच बढ़ेगी।  

प्लांट में पूरी यूरोपियन मशीनरी का उपयोग किया गया है। भारतीय खाने के तेल की इंडस्ट्री में यह नवीनतम मशीनें हैं। पूरे कांडला क्षेत्र में यह एकमात्र खाने का प्लांट है। इसके जरिए लॉजिस्टिक की लागत को बचाने में मदद मिलेगी। इस प्लांट के जरिए इमामी हेल्दी एंड टेस्टी और हिमानी बेस्ट च्वॉइस, वनस्पति ब्रांड रसोई और बेक मैजिक के प्रोडक्ट को बनाया जाएगा।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *