कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड 2 तिमाही में 3 लाख करोड़ को पार कर सकता है, टाटा और एडलवाइस का रैंक बढ़ेगा

मुंबई- कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड अगली दो तिमाही में 3 लाख करोड़ रुपए के असेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) को पार कर सकता है। इस समय 2.69 लाख करोड़ रुपए के साथ कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड पांचवें नंबर पर है। जून तिमाही में इसका AUM 2.46 लाख करोड़ रुपए था।  

टाटा म्यूचुअल फंड L&T म्यूचुअल फंड को पीछे छोड़ने के करीब है। टाटा का AUM जून तिमाही में 66 हजार करोड़ से बढ़कर सितंबर में 77 हजार करोड़ रुपए हो गया है। जबकि L&T का AUM 75 से 78 हजार करोड़ रुपए हो गया है। एडलवाइस म्यूचुअल फंड फ्रैंकलिन टेंपल्टन को पीछे छोड़ने के करीब है। एडलवाइस का AUM जून तिमाही में 54 हजार करोड़ रुपए था जो सितंबर तिमाही में 61 हजार करोड़ रुपए हो गया है। फ्रैंकलिन टेंपल्टन का AUM 60 हजार करोड़ से बढ़कर 63 हजार करोड़ रुपए हो गया है।  

कोटक महिंद्रा फंड लगातार एयूएम में बढ़त कर रहा है। पिछली चार तिमाहियों से इसने तेजी से एयूएम में बढ़त किया है। निप्पोन फंड को यह पीछे छोड़कर टॉप 5 में आ गया है। सितंबर तिमाही में कुल फंड कंपनियों का 36.16 लाख करोड़ रुपए एयूएम हो गया है। जून तिमाही में यह 33.17 लाख करोड़ रुपए था। इसमें से 90% हिस्सा टॉप 14 कंपनियों के पास है। जबकि अंतिम की 18 कंपनियों के पास महज 1.5% हिस्सा ही है। तीन महीने में फंड इंडस्ट्री के AUM में 3 लाख करोड़ रुपए की बढ़त आई है।  

टॉप 14 फंड कंपनियों के पास 32.87 लाख करोड़ रुपए AUM है। दिसंबर 2020 में इनके पास 92% हिस्सा था। यानी 9 महीने में 2% की कमी इन कंपनियों के AUM में आई है। एसोसिएशन ऑफ म्यूचुअल फंड्स इन इंडिया (एंफी) के आंकड़ों के मुताबिक, SBI म्यूचुअल फंड का AUM सितंबर में 5.78 लाख करोड़ रुपए था। जून तिमाही में 5.23 लाख करोड़ रुपए था।  

दूसरे नंबर पर ICICI प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड है। इसका सितंबर में AUM 4.47 लाख करोड़ रुपए रहा, जो जून तिमाही में 4.16 लाख करोड़ रुपए था। HDFC म्यूचुअल फंड 4.38 लाख करोड़ रुपए के साथ तीसरे नंबर पर है। जून में इसका AUM 4.16 लाख करोड़ रुपए था। इसी हफ्ते IPO लाने वाली कंपनी बिड़ला म्यूचुअल फंड का AUM सितंबर में 2.98 लाख करोड़ रुपए रहा। जबकि जून में 2.75 लाख करोड़ रुपए था।  

निप्पोन इंडिया म्यूचुअल फंड छठें नंबर पर है। सितंबर में इसका AUM 2.65 लाख करोड़ रुपए रहा, जो जून तिमाही में 2.49 लाख करोड़ रुपए था। एक्सिस म्यूचुअल फंड 2 लाख करोड़ रुपए के क्लब में है। जून में इसका AUM 2.08 लाख करोड़ रुपए था जो सितंबर तिमाही में 2.38 लाख करोड़ रुपए रहा। UTI म्यूचुअल फंड 2 लाख करोड़ रुपए के क्लब में आ गया है। यूटीआई का AUM जून तिमाही में 1.87 लाख करोड़ रुपए था जो सितंबर तिमाही में 2.08 लाख करोड़ रुपए हो गया है। IDFC का AUM दोनों तिमाही में 1.26 लाख करोड़ रुपए जबकि मिरै म्यूचुअल फंड का AUM 77 हजार करोड़ से बढ़कर 90 हजार करोड़ रुपए हो गया है।  

देश में कुल 42 फंड हाउस हैं। इसमें से पांच फंड हाउसेस का AUM एक हजार करोड़ रुपए से नीचे है। जबकि 4 फंड हाउस का AUM 2 हजार करोड़ रुपए से कम है। 18 फंड हाउस 10 हजार करोड़ रुपए से कम AUM वाले हैं। पांच फंड हाउस 50 हजार से 1 लाख करोड़ रुपए के बीच में हैं। देश की टॉप 5 फंड कंपनियों के पास 20 लाख करोड़ रुपए का AUM है। यानी कुल AUM का करीबन 60% हिस्सा टॉप 5 फंड हाउसेस के पास है। जो अंतिम की 18 कंपनियां हैं, उनके पास 56 हजार करोड़ रुपए का ही AUM है। यानी कुल AUM का करीबन 1.5% ही हिस्सा उनके पास है। जून की तुलना में सितंबर तिमाही में केवल जे एम फाइनेंशियल का ही एयूएम गिरा है। बाकी सभी कंपनियों का बढ़ा है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *