TCS ने पहला 100 अरब डॉलर 13.5 साल में हासिल किया, दूसरा 100 अरब डॉलर 3.5 साल में टच किया

मुंबई- टॉप IT कंपनी टाटा कंसलटेंसी सर्विसेस (TCS) बुधवार को 200 अरब डॉलर का मार्केट कैप हासिल करने वाली देश की पहली सॉफ्टवेयर कंपनी बन गई। इसे पहला 100 अरब डॉलर का लेवल छूने में 13.5 साल, जबकि दूसरा 100 अरब डॉलर टच करने में केवल 3.5 साल लगा है। BSE का सेंसेक्स 59 हजार के आंकड़े को पहली बार पार किया है।  

TCS अब ग्लोबल सॉफ्टवेयर कंपनी एसेंचर के करीब पहुंच गई है। एसेंचर का मार्केट कैप 218.5 अरब डॉलर है। हालांकि TCS ने बुधवार को यह रिकॉर्ड हासिल किया। आज इसके शेयर्स में गिरावट है। इसका मार्केट कैप घटकर 198 अरब डॉलर हो गया है। TCS का शेयर बुधवार को एक साल के ऊपरी स्तर 3,981 रुपए पर पहुंचा था। आज यह 1.5% गिरावट के साथ 3,900 रुपए पर कारोबार कर रहा है। रुपए में मार्केट कैप 14.43 लाख करोड़ रुपए है। कल यह 14.65 लाख करोड़ रुपए हो गया था।  

TCS 2004 में शेयर बाजार में लिस्ट हुई थी। इसने पहली बार 100 अरब डॉलर का मार्केट कैप 2017 में टच किया था। इस तरह से इसे 13.5 साल का समय 100 अरब डॉलर तक पहुंचने में लगा था। लेकिन अगला 100 अरब डॉलर का आंकड़ा इसने केवल 3.5 साल में टच किया है।  

TCS अपने ग्लोबल ग्राहकों को सॉफ्टवेयर की एंड टू एंड सेवाएं देती है। पिछले एक साल में कोरोना की वजह से सभी सेक्टर के ग्राहकों ने टेक्नोलॉजी में अच्छा खासा निवेश किया है। यही कारण है कि IT कंपनियों के शेयर्स 1 साल में बेहतरीन मुनाफा दिए हैं। इससे कंपनियों के मार्केट कैप पर भी असर दिखा है।  

सैप का मार्केट कैप 169.4 अरब डॉलर है। IBM का मार्केट कैप 123 अरब डॉलर है। भारत की दूसरी IT कंपनी इंफोसिस पांचवें नंबर पर है। इसका मार्केट कैप 99 अरब डॉलर है। पिछले महीने ही 100 अरब डॉलर के लेवल को इस कंपनी ने टच किया था। रुपए में इसका मार्केट कैप अभी 7.20 लाख करोड़ रुपए है। पिछले महीने यह 7.37 लाख करोड़ रुपए पहुंच गया था। 

विप्रो 50 अरब डॉलर के साथ छठें नंबर पर आती है जबकि HCL टेक 47 अरब डॉलर के साथ सातवें नंबर पर आती है। भारत की IT कंपनियों के बारे  में अनुमान है कि यह कंपनियां 2021-22 के दौरान 10% से ज्यादा की ग्रोथ करने में सफल होंगी। लगातार यह कंपनियां ग्लोबल ग्राहकों के साथ डील जीत रही हैं। जून तिमाही में टॉप 5 सॉफ्टवेयर कंपनियों ने 14 अरब डॉलर की डील जीती थीं। इसमें TCS अकेले 8.1 अरब डॉलर की डील हासिल की थी। इंफोसिस 2.1 अरब डॉलर की डील हासिल की थी जबकि HCL टेक 1.66 अरब डॉलर की जीत हासिल की थी।  

विश्लेषकों का कहना है कि इस समय IT कंपनियों के शेयर भले ही महंगे हैं, फिर भी इन शेयर्स में आगे तेजी की उम्मीद दिख रही है। कम ब्याज दर के इस माहौल में महंगे वैल्यूएशंस पर भी इन स्टॉक में निवेशक दांव लगा रहे हैं। निवेशकों का मानना है कि अगले 2-3 सालों तक IT के शेयर्स में अच्छी खासी तेजी रह सकती है।  

मार्केट कैप के लिहाज से रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले नंबर पर है। इसका मार्केट कैप 15.25 लाख करोड़ रुपए है। देश का सबसे बड़ा बैंक SBI आज 4 लाख करोड़ रुपए के मार्केट कैप को पार किया है। जबकि दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी एयरटेल ने भी आज 4 लाख करोड़ रुपए के मार्केट कैप को पार किया है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *