निप्पोन इंडिया म्यूचुअल फंड के सीनियर फंड मैनेजर पारेख ने दिया इस्तीफा

मुंबई- निप्पोन इंडिया म्यूचुअल फंड के सीनियर फंड मैनेजर संजय पारेख ने इस्तीफा दे दिया है। वे निप्पोन इंडिया में साल 2012 से जुडे थे। इससे पहले वे साल 2008 से 2012 तक आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्यूचुअल फंड मेँ थे।  

संजय पारेख को फंड मैनेजमेंट में 24 सालों का लंबा अनुभव है। वे मूलरूप से इक्विटी फंड को मैनेज करते हैं। निप्पोन इंडिया में वे निप्पोन इंडिया कैपिटल प्रोटेक्शन ओरिएंटेड फंड, निप्पोन इंडिया इक्विटी हाइब्रिड फंड, निप्पोन इंडिया इक्विटी सेविंग्स फंड और निप्पोन इंडिया हाइब्रिड बांड फंड को मैनेज कर रहे थे।  

हालांकि संजय पारेख के इस्तीफे का कारण का पता नहीं चल पाया है। उनके बारे में कंपनी ने 9 सितंबर को अनाउंसमेंट किया था। निप्पोन इंडिया लाइफ असेट मैनेजमेंट ने कहा कि उनका इस्तीफा 9 सितंबर से प्रभावी है। जून 2021 की तिमाही में निप्पोन का असेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 2.40 लाख करोड़ रुपए रहा है। अप्रैल-जून 2018 की तिमाही से तुलना करें तो उस समय भी कंपनी का असेट अंडरमैनेजमेंट 2.40 लाख करोड़ रुपए ही रहा था।  

इन आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले तीन सालों में कंपनी का एयूएम उसी लेवल पर रहा है, जो पहले था। पिछले साल अप्रैल जून में इसका एयूएम घट कर 1.80 लाख करोड़ रुपए हो गया था। जबकि इन तीन सालों में देश की म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एयूएम 23.40 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 36 लाख करोड़ रुपए हो गया है। यानी इसमें 50 पर्सेंट से ज्यादा की बढ़त हुई है। इसी दौरान टॉप 5 म्यूचुअल फंड कंपनियों के एयूएम में भी अच्छी खासी बढ़त हुई है।  

2018 में एसबीआई का एयूएम 2.33 लाख करोड़ रुपए था। यह अब देश की सबसे बड़ी फंड कंपनी है और इसका एयूएम करीबन ढाई गुना बढ़कर 6 लाख करोड़ रुपए हो गया है। जबकि इसी दौरान एचडीएफसी म्यूचुअल फंड का एयूएम 3.06 लाख करोड़ रुपए से बढ़ कर 4.5 लाख करोड़ रुपए जबकि आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल का एयूएम 3.10 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 4.55 लाख करोड़ रुपए हो गया है।  

देश की म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में सबसे पहले रिलायंस म्यूचुअल फंड ही लिस्टेड हुई थी। निप्पोन का नाम तब रिलायंस निप्पोन असेट मैनेजमेंट हुआ करता था। हालांकि इसके आईपीओ से लेकर अब तक इसके शेयर का प्रदर्शन बहुत अच्छा नहीं रहा है। 2017 में इसका आईपीओ 247 से 252 रुपए पर आया था। यह इस समय 440 रुपए पर कारोबार कर रहा है। निप्पोन इंडिया का पहले नाम रिलायंस निप्पोन म्यूचुअल फंड हुआ करता था। बाद में जापान की निप्पोन ने इसमें पूरी हिस्सेदारी खरीद ली और रिलायंस इससे बाहर हो गई।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *