किसी जाने-पहचाने ब्रांड की रीब्रांडिंग के लाभ

मुंबई- बाजार के बदलते ट्रेंड्स में तेजी से बदलाव के साथ ब्रांड से जुड़ी पहचान को अपडेट करना बेहद मुश्किल हो जाता है, जो एक कंपनी के भीतर हुए विकास को भी दर्शाए। अगर यह लीगेसी (जाना-पहचाना) ब्रांड है तो मामला और भी पेचीदा हो जाता है। हालांकि, कभी-कभी कंपनी के विकास को देखते हुए बड़े दर्शकों का ध्यान खींचने के लिए रीब्रांडिंग अपरिहार्य हो जाती है। रीब्रांडिंग की किसी भी कवायद का मुख्य उद्देश्य इस क्षेत्र में नए जमाने की कंपनियों की आमद के बावजूद अधिक व्यवसाय लाना या बाजार में प्रतिस्पर्धा में बढ़त बनाए रखना है।कंपनियां बाजार में किसी ब्रांड के रीपोजिशनिंग का लाभ कैसे उठा सकती हैं इस बारे में विस्तार से जानकार दे रहें हैं एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के चीफ ग्रोथ ऑफिसर प्रभाकर तिवारी।  

नए दर्शकों के लिए सेवाएं: समय और नए तकनीकी विकास के हर गुजरते वर्ष के साथ ब्रांड का टारगेट ऑडियंस भी बदलता है और यह स्वाभाविक है। मान लीजिए कि आपने जेनरेशन जेड और मिलेनियल्स की नई ज़रूरतों के अनुसार खुद को ढाल लिया है, लेकिन हो सकता है कि आपका ब्रांड नाम या पहचान में नए डेवलपमेंट न झलकते हो। पुरानी पहचान को बनाए रखना एक ठहराव बिंदु पर पहुंचना माना जा सकता है, जिससे कंपनी साहसी नई दुनिया में अपनी प्रासंगिकता खो देती है। इस वजह से नए ग्राहकों को टारगेट करने के लिए ब्रांड पहचान को बदलना रीब्रांडिंग का एक महत्वपूर्ण कारण है। रीब्रांडिंग अभ्यास में नए व्यावसायिक पहलुओं पर ध्यान केंद्रित किया जाता है और यह इन्हें बढ़ावा देता है। इससे आप आसानी से अपने नए टारगेट ऑडियंस का ध्यान खींचने में सक्षम होंगे। 

नई कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा: आजकल टेक्नोलॉजी के नॉलेज और यूनिक आइडिया के साथ व्यवसाय शुरू करना बहुत आसान हो गया है। लगभग हर मार्केट सेग्मेंट में नए व्यवसायों के लिए शुरुआती बाधाओं में कमी ने प्रतिस्पर्धा बढ़ा दी है। युवाओं की बढ़ती संख्या नए ब्रांड्स को आगे लेकर जा रही हैं, और वे जल्दी से टारगेट ऑडियंस तक पहुंच जाते हैं, जो उन्हें तेजी से विकसित होने में मदद करते हैं। पुराने ब्रांड के रूप में आपको बाजार की मांगों के साथ तालमेल बिठाना होगा। ऐसे परिदृश्य में आपके लिए बदलाव लाना बेहद जरूरी होगा। ट्रेंडी पहचान के साथ, पुराने ब्रांड प्रतिस्पर्धा में बढ़त हासिल कर सकते हैं। चूंकि, आप एक पुराने ब्रांड हैं, इस वजह से आप ऑडियंस से बाजार में बनाए गए विश्वास और भरोसे का लाभ उठा सकते हैं। एक सुविचारित रीब्रांडिंग की कोशिशें कंपनी के विकास में सिर्फ वृद्धि करेगी। 

नए उद्देश्यों और सॉल्युशन की झलक: अंत में हो सकता है कि आपने पिछले कुछ वर्षों में काफी बदलाव किए हों, जिसमें नए अत्याधुनिक प्लेटफॉर्म और नए जमाने के सॉल्युशन शामिल हैं। यह आपके नए टारगेट ऑडियंस की जरूरतों को पूरा करते हैं। हो सकता है कि आपकी ब्रांड पहचान इसमें न झलकती हो। यह आपके प्रोडक्ट्स को अपडेट रखने के आपके सभी प्रयासों के बावजूद विकास में मंदी का परिणाम हो सकता है। रीब्रांडिंग आपके द्वारा अपने व्यवसाय में लागू किए गए और नए जोड़े गए परिवर्तनों को सामने लाने और अपनी खुद की आकर्षक कहानी बयां करने का एक शानदार तरीका है। यह न केवल आपके हाल के प्रयासों को दिखाएगा बल्कि आपके अंतिम लक्ष्यों को भी सामने लाएगा। यदि आप अपने अभियान के साथ सही तालमेल बिठाते हैं, तो आप बड़े पैमाने पर कस्टमर लॉयल्टी भी प्राप्त करने में सक्षम हो सकते हैं। 

इनके अलावा, रीब्रांडिंग के कई फायदे हैं और यह व्यवसायों को छलांग लगाने और सीमा से ऊपर उठकर बढ़ने में मदद कर सकता है। हालांकि, रीब्रांडिंग भारी-भरकम और कठिन दोनों हो सकती है, इस वजह से आपको अच्छी तरह से योजना बनानी चाहिए। लक्ष्य को समझने के साथ इसकी शुरुआत करें, कुछ लक्ष्य निर्धारित करें और फिर कार्रवाई करें। स्पष्टता और महत्वाकांक्षा के बिना रीब्रांडिंग व्यर्थ हो सकती है। इस वजह से अधिक विस्तृत दृष्टिकोण प्राप्त करने और रीब्रांडिंग के उद्देश्य का सटीक मूल्यांकन करने के लिए सभी महत्वपूर्ण सवालों को पूछें और सभी को अपने साथ जोड़ें। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *