उत्तर पूर्व भारत के लिए बैंक विशेष योजना बनाएं, ज्यादा उधारी दें

मुंबई- बैंकों को उत्तर पूर्व भारत में फोकस करना चाहिए। यहां पर चालू एवं बचत खाता (कासा) डिपॉजिट बढ़ रही है। इसलिए बैंकों को इन क्षेत्रों में उधारी को भी बढ़ाना चाहिए। इससे बैंकों को लाभ होगा। यह बात वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कही। 

दो दिवसीय दौरे के बाद वित्तमंत्री ने कहा कि बैंकों ने इसमें आत्मनिर्भर भारत का भी पूरा ब्यौरा दिया। इंडस्ट्री के पास अब यह अवसर है कि वे बैंकों के अलावा भी दूसरे माध्यम से पैसा जुटा रहे हैं। बैक भी बाजार से पैसा जुटा रहे हैं। सरकारी बैंक राज्य सरकारों के साथ काम करें। एक जिला एक प्रोडक्ट के लिए काम करें। इस संदर्भ में उत्तर प्रदेश में उभरते सितारे प्रोडक्ट को लांच किया गया है। बैंक इसके लिए कॉमन इंफ्रा प्लेटफॉर्म बना सकते हैं।  

उन्होंने कहा कि उत्तर पूर्व भारत के लिए विशेष योजना बैंक बनाएं। इसमें लॉजिस्टिक्स, इंपोर्ट पर फोकस किया जाएगा। पूर्वी भारत में ओड़िशा, बिहार, पश्चिम बंगाल में कासा डिपॉजिट बढ़ रहा है। इसलिए बैंकों को इन इलाकों में क्रेडिट को बढ़ाना चाहिए। यानी ज्यादा उधारी देना चाहिए। उन्होंने कहा कि दक्षिण भारत और पश्चिमी भारत की तर्ज पर पूर्वी भारत में बैंक उधारी नहीं दे पा रहे हैं।  

सीतारमण ने कहा कि सरकारी बैंकों ने अच्छा प्रदर्शन किया है। वे अब फायदा दे रहे हैं। भारतीय सरकारी बैंक कोरोना के समय में अच्छा प्रदर्शन किए हैं। कोरोना से पहले बड़े बैंकों में छोटे बैंकों का विलय किया गया था। इस वजह से ग्राहकों को कोई दिक्कत नहीं हुई और बैंक अच्छा काम कर रहे हैं। बैंक विलय से संबंधित सभी काम अच्छा कर रहे हैं। बैंक कस्टमर एक्सपीरिएंस में सुधार कर रहे हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.