कोटक महिंद्रा बैंक में फ्रॉड, FD पर ज्यादा ब्याज की लालच देकर 8.64 करोड़ रुपए ग्राहकों के हड़पे, 3 गिरफ्तार

मुंबई- कोटक महिंद्रा बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) पर ज्यादा ब्याज देकर ग्राहकों के 8.64 करोड़ रुपए हड़पने का मामला प्रकाश में आया है। इस संबंध में पुलिस ने 3 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसमें एक बैंक कर्मचारी और दो अन्य लोग हैं।  

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, बैंक के प्रायोरिटी रिलेशन शिप मैनेजर अपूर्व शहा ने अपने पहचान वाले संतोष शेट्‌टी को बैंक में खाता खोलने की सलाह दी। शेट्‌टी ने इस मामले में अपने एक दोस्त सहदेव को कहा कि कोटक महिंद्रा बैंक में खाता खोलने पर कमल नाम की एफडी पर 8.70 पर्सेंट का ब्याज मिलेगा। इसके बाद शेट्‌टी ने बैंक में 10 लाख रुपए जमा करा दिए। पर इसी बीच जब सहदेव ने अपूर्व से पूछा तो पता चला कि बैंक में इस तरह की कोई एफडी नहीं है।  

इसके बाद बैंक ने जब इस मामले की जांच की तो पता चला है कि बैंक का अधिकारी गौरव पदमा इस मामले में शामिल है। पुलिस ने बताया कि बैंक ने इस मामले में शिकायत दर्ज कराई थी। इस शिकायत के आधार पर जांच की गई जिसमें 8.64 करोड़ रुपए ग्राहकों के हड़प लिए गए। जांच अधिकारी ने बताया कि गौरव पदमा ने बैंक के सिस्टम से डुप्लीकेट रसीद दी और उसके बाद उसने कुल 22 खाताधारकों के पैसे को न्यू कमल टायर एंड बैटरीज नाम के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया।  

पुलिस ने जांच में पाया कि न्यू कमल टायर एंड बैटरीज के खाते में जो पैसे ट्रांसफर किए गए थे, वे सभी पैसे वहां से गौरव पदमा के परिवार और रिश्तेदारों के अलग-अलग खातों में ट्रांसफर किए गए। गौरव ने वहां से 16 अलग खातों में इसमें से 6.17 करोड़ रुपए भेज दिया। पुलिस ने बताया कि गौरव साल 2019 से इस ब्रांच में काम कर रहा था।  

पुलिस के मुताबिक, इस मामले में गौरव के अलावा राहुल और बशीर शेख को गिरफ्तार किया गया है। राहुल और बशीर दोनों ने गौरव से पैसे लेकर इस मामले में उसका साथ दिया। पुलिस ने बताया कि इस मामले में अभी तक रिकवरी पूरी नहीं हो पाई है और जांच जारी है। कोटक महिंद्रा ग्रुप ने इस संबंध में भेजे गए ईमेल का कोई जवाब नहीं दिया।

इस मामले में जिन लोगों ने एफडी के नाम पर पैसा जमा कराया उसमें कुछ लोगों के डेढ़ करोड़ तो कुछ लोगों के 25 लाख रुपए तक जमा हैं। हालांकि मामला खुलने के बाद गौरव ने कुछ लोगों के पैसे तो लौटाए, पर बाकी लोगों के पैसे अभी तक नहीं मिल पाए हैं।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *