मार्केट कैप 4.38 लाख करोड़ घटा, सेंसेक्स 52 हजार के करीब पहुंचा

मुंबई– भारतीय शेयर बाजार पर ग्लोबल शेयर बाजारों की बिकवाली हावी हो गई है। हफ्ते के पहले दो दिनों में जमकर गिरावट दिखी है। इन दो दिनों में बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के अंकों में 1,097 की गिरावट आई है। जबकि इसी दौरान लिस्टेड कंपनियों का मार्केट कैप 4.39 लाख करोड़ रुपए घट गया है। कल बाजार बकरीद के अवसर पर बंद रहेगा। इसलिए अगला ट्रिगर गुरुवार को दिखेगा। 

सोमवार को सेंसेक्स में 586 अंकों की गिरावट आई थी जबकि मंगलवार को भी इसमें 530 से ज्यादा अंकों की गिरावट आई है। शुक्रवार को सेंसेक्स 53,140 के लेवल पर बंद हुआ था जो मंगलवार को 52,040 के लेवल पर पहुंच गया है। यही हाल नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (निफ्टी) का भी है। इसमें भी दो दिनों में 300 से ज्यादा अंकों की गिरावट आई है। शुक्रवार को यह 15,923 पर बंद हुआ था जो मंगलवार को 15,590 पर आ गया है। सोमवार को पिछले तीन महीनों की सबसे बड़ी गिरावट बाजार में रही है।  

शुक्रवार को BSE का कुल मार्केट कैप 234.38 लाख करोड़ रुपए था, जो मंगलवार को 230 लाख करोड़ रुपए पर आ गया है। बाजार की गिरावट में फाइनेंशियल और बैंकिंग शेयरों का भारी योगदान है। यहां तक कि अच्छे रिजल्ट के बाद भी HDFC बैंक का शेयर दो दिनों में 5% से ज्यादा टूटा है। ICICI बैंक, कोटक महिंद्रा, SBI, इंडसइंड बैंक, कैनरा बैंक और सेंट्रल बैंक जैसे शेयर जमकर टूटे हैं। इनमें 5% तक की गिरावट दो दिनों में आई है।  

बाजार की गिरावट का प्रमुख कारण ग्लोबल बाजारों में बिकवाली है। बैंकों के अलावा, मेटल, टेलीकॉम, रियल्टी और पावर सेक्टर ने बाजारों पर दबाव बनाया है। डेल्टा के नए वेरिएंट ने विदेशी बाजारों पर दबाव बनाया है। मेटल शेयरों में सेल में 4.47, जिंदल स्टील 3%, टाटा स्टील और JSW स्टील में 2-2% की गिरावट आई है।  

आईसीआईसीआई डायरेक्ट ने चीनी शेयरों को खरीदने की सलाह दी है। इन शेयरों में अगले 1 साल में 50% तक का फायदा मिलने की उम्मीद है। इन शेयरों में बलरामपुर, धामपुर, द्वारिकेश, अवध शुगर जैसे शेयरों को शामिल किया गया है। ढेर सारे ब्रोकरेज हाउसों ने SBI, HDFC और ICICI बैंक के शेयरों में दांव लगाने की सलाह दी है। हालांकि कुछ विश्लेषकों ने जिन शेयरों में फायदा हुआ है, उसमें मुनाफा वसूली करने की सलाह दी है। वैसे विश्लेषकों का मानना है कि बाजार लंबे समय में अच्छा प्रदर्शन करेगा, पर फिलहाल अस्थाई तौर पर इसमें उतार-चढ़ाव बने रह सकते हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *