जोमैटो- पेटीएम में रिटेल निवेशकों को कम हिस्सा, जोमैटो पर भारी पड़ा तत्व चिंतन का इश्यू

मुंबई– इस समय IPO की धूम है। लेकिन चौंकाने वाली बात यह है कि छोटी कंपनियां बड़ी कंपनियों पर भारी पड़ रही हैं। IPO के खुलने के पहले दिन के सब्सक्रिप्शन की बात करें तो मार्च के बाद से नजारा टेक्नोलॉजी नंबर 1 पर है। पर उसका रिकॉर्ड तत्व चिंतन फार्मा का IPO तोड़ सकता है।  

आंकड़े बताते हैं कि मार्च के बाद से अब तक आए बड़े IPO में नजारा टेक्नोलॉजी का IPO पहले दिन 4.01 गुना भरा था। कुल सब्सक्रिप्शन इसे 175 गुना मिला था। इसमें रिटेल का हिस्सा 75.29 गुना भरा था जो एक रिकॉर्ड है। 582 करोड़ के इस इश्यू का मूल्य 1,101 रुपए रखा गया था। इसके बाद पहले दिन सब्सक्रिप्शन में तत्व चिंतन फार्मा है। इसका IPO खुला हुआ है। यह दोपहर तक 3.50 गुना भरा था। रिटेल का हिस्सा पहले दिन 7 गुना भरा है। 500 करोड़ के IPO का मूल्य 1,083 रुपए है।  

इसी तरह एमटीएआर का IPO पहले दिन 3.68 गुना भरा था। इसे कुल 200.79 गुना रिस्पांस मिला था। इसमें रिटेल का हिस्सा 28.40 गुना भरा था। 596 करोड़ के इस IPO का मूल्य 575 रुपए था। हाल में बंद हुए जी.आर. इंफ्रा का IPO पहले दिन 2.28 गुना भरा था और कुल 102 गुना भरा है। रिटेल का हिस्सा 12.57 गुना भरा है। 963 करोड़ के इश्यू का मूल्य 837 रुपए तय किया गया था। क्लीन साइंस का पहले दिन 1.70 गुना जबकि टोटल 93.41 गुना इश्यू भरा था। 1,546 करोड़ का यह IPO 900 रुपए के मूल्य पर आया था। 

लक्ष्मी ऑर्गेनिक का IPO पहले दिन 2.28 गुना जबकि टोटल 106 गुना भरा था। रिटेल निवेशकों ने इसमें 20 गुना ज्यादा पैसा लगाया था। 600 करोड़ रुपए का यह इश्यू 130 रुपए के भाव पर आया था। इजी ट्रिप की बात करें तो इसका पहले दिन 2.33 गुना भरा था जबकि टोटल 159 गुना भरा था। रिेटेल निवेशकों का हिस्सा 70 गुना से ज्यादा भरा था। 510 करोड़ का इश्यू 187 रुपए के भाव पर आया था।   

आंकड़े बताते हैं कि डोडला डेयरी का IPO पहले दिन 1.23 गुना और अंतिम दिन 45 गुना भरा था। रिटेल निवेशकों ने 11.34 गुना अपना हिस्सा भरा था। 520 करोड़ के इश्यू का भाव 428 रुपए तय किया गया था। श्याम मेटालिक्स का भी IPO पहले दिन 1.23 गुना भरा और अंतिम दिन 121 गुना भरा था। रिटेल का हिस्सा 11.64 गुना भरा था। 909 करोड़ का IPO 306 रुपए में आया था। जोमैटो का IPO इस मामले में फेल रहा है। पहले दिन वह महज 1.05 गुना भरा था। अंतिम दिन तक वह 38 गुना भरा है। रिटेल का हिस्सा इसमें 7.23 गुना भरा है जबकि तत्व चिंतन में भी रिटेल का हिस्सा 7 गुना ही भरा है। जोमैटो 72 से 76 रुपए के भाव पर 9,375 करोड़ रुपए के लिए बाजार में उतरी है। 

चौंकाने वाली बात यह है कि बड़े IPO हमेशा रिटेल निवेशकों के लिए कम हिस्सा रखते हैं। जोमैटो और पेटीएम ने यही काम किया है। हालांकि दोनों घाटे वाली कंपनी हैं, इसलिए इसमें कम हिस्सा है। पेटीएम और जोमैटो ने 10-10 पर्सेंट ही हिस्सा रिटेल के लिए आरक्षित रखा है। अमूमन IPO में 15 से 35 पर्सेंट हिस्सा रिटेल के लिए कंपनियां रखती हैं। 

पेटीएम ने शुक्रवार को सेबी के पास मसौदा जमा कराया है। इसका ग्रे मार्केट में भाव 2500 रुपए पर चल रहा है। हालांकि यह IPO से पहले के निवेशकों के लिए है जिसमें एक साल का लॉक इन पीरियड होता है। यानी कोई भी निवेशक एक साल से पहले नहीं निकल सकता है। पेटीएम ने मोर्गन स्टेनली, गोल्डमैन, एक्सिस कैपिटल को ज्वाइंट ग्लोबल को-ऑर्डिनेटर रखा है। बुक रनिंग लीड मैनेजर में आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज, जेपी मोर्गन, सिटीग्रुप और एचडीएफसी बैंक हैं। इसमें 75 पर्सेंट हिस्सा क्वालीफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स के लिए है। 15 पर्सेंट हिस्सा गैर संस्थागत निवेशकों के लिए है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *