जोमैटो का आईपीओ आज से, खाना मिलने में देरी हुई तो शुरु हुई जोमैटो

मुंबई– निवेशकों के लिए पब्लिक इश्यू के लिहाज से 14 जुलाई का दिन खास है। इसी दिन ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो (Zomato) का IPO खुलेगा, जो 16 जुलाई तक खुला रहेगा। इसके जरिए कंपनी 9,375 करोड़ रुपए जुटाने की तैयारी में है। 

जोमैटो को दीपेंदर गोयल ने अपने ऑफिस के दोस्त पंकज चड्ढा के साथ मिलकर 2008 में लॉन्च किया था। हुआ यूं कि दीपेंदर रोजाना की तरह दफ्तर गए थे और कैंटीन में खाने के मेन्यू का इंतजार कर रहे थे। उन्हें महसूस हुआ कि मेन्यू में काफी समय लग रहा है। 

फिर उन्होंने खाने का मेन्यू स्कैन करके इंटरनेट पर डाला, तो लोगों को यह काफी पसंद आया। यहीं से उन्हें एक ऐसी वेबसाइट का आइडिया आया, जिसमें लोगों को आसपास के रेस्टोरेंट की जानकारी मिल सके। दीपेंदर ने पंकज के साथ मिलकर साल 2008 में फूडीबे खोला, जिसका नाम 2010 में बदलकर जोमैटो कर दिया गया। 

जोमैटो, एक ऑन लाइन रेस्टोरेंट एग्रीगेटर है, जो ग्राहकों को रेस्टोरेंट से खाना और ग्रॉसरी की होम डिलीवरी करती है। वेबसाइट में रेस्टोरेंट के मेन्यू से लेकर उसका रिव्यू भी होता है। साथ ही रेस्टोरेंट के लिए मार्केटिंग भी करती है। इसके लिए जोमैटो ने हर शहर के रेस्टोरेंट के साथ करार किया। 

जोमैटो का कारोबार देश में दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई, पुणे और कोलकाता समेत कई प्रमुख शहरों में है। इसके अलावा विदेश में जोमैटो की सर्विस UAE, फिलीपींस, साउथ अफ्रीका, न्यूजीलैंड, तुर्की, ब्राजील और इंडोनेशिया, पुर्तगाल, कनाडा, आयरलैंड में है। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया और US में भी जोमैटो का कारोबार फैला हुआ है। 

कंपनी के फाइनेंशियल प्रोफाइल को देखें, तो इसका कुल रेवेन्यू फाइनेंशियल ईयर 2017-18 में 487 करोड़ रुपए था, जो 2020-21 में बढ़कर 2,743 करोड़ रुपए हो गया। फिलहाल कंपनी 2,385 करोड़ रुपए के घाटे में है। कंपनी ने कर्ज भुगतान और सामान्य कॉर्पोरेट जरूरतों के लिए पब्लिक इश्यू लाने का फैसला लिया और मार्केट रेगुलेटर सेबी के पास अर्जी दी। 

मंजूरी मिलने के बाद जोमैटो ने IPO लॉन्चिंग के लिए 14-16 जुलाई का दिन चुना है। IPO में निवेश के लिए प्रति शेयर 72 से 76 रुपए प्राइस तय की गई है। 195 शेयरों का एक लॉट होगा, जिसके लिए अप्लाई कर सकते हैं। हालांकि, रिटेल निवेशक अधिकतम 13 लॉट के लिए ही अप्लाई कर सकता है। सेबी के नियमों के मुताबिक, 2 लाख रुपए से ज्यादा का निवेश आप नहीं कर सकते हैं। 

कंपनी ने एंकर निवेशकों से 4,170 करोड़ रुपए जुटाए। इसके लिए संस्थागत निवेशकों ने प्रति शेयर 76 रुपए का भुगतान किया। जोमैटो में अभी कोरा मैनेजमेंट, टाइगर ग्लोबल मैनेजमेंट, फिडेलिटी समेत इन्फो एज का निवेश है। कंपनी में सबसे बड़ी हिस्सेदारी (18.4%) इन्फो एज की है, जो ऑफर फॉर सेल के जरिए 375 करोड़ रुपए के शेयर बेचेगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.