डी2सी कंसल्टिंग इंश्योरेंस ब्रोकिंग पर 1 करोड़ रुपए का जुर्माना, दूसरे नाम से चला रहा था वेबसाइट

मुंबई– बीमा रेगुलेटर इंश्योरेंस रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी ऑफ इंडिया (IRDAI) ने बीमा ब्रोकर डी2सी कंसल्टिंग पर एक करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। यह जुर्माना एजेंट नियुक्त करने पर लगाया गया है। साथ ही कंपनी दूसरे नाम से वेबसाइट भी चला रही थी।  

जानकारी के मुताबिक, कंपनी रिन्यूबाई डॉटकॉम नाम से वेबसाइट चला रही थी। यह उसकी कंपनी के नाम से अलग है। इस पर भी उसे रेगुलेटर ने चेतावनी दी है। कंपनी रिन्यूबाई को बीमा के लिए उपयोग में ला रही थी। इस वेबसाइट पर कंपनी का नाम सही तरीके से नहीं दिख रहा था। रेगुलेटर IRDAI ने अपने आदेश में कहा कि किसी बीमा ब्रोकर द्वारा डेवलप की गई वेबसाइट उसी नाम से हो सकती है जिस नाम से उसे लाइसेंस मिला है। किसी और नाम से वेबसाइट का उपयोग करना प्रतिबंधित है।  

IRDAI ने इस मामले में मार्च 2017 में वेबसाइट की जांच की थी। उसने नवंबर 2017 में ब्रोकर कंपनी को पत्र भेजा और जवाब मांगा। रेगुलेटर ने फिर से 2019 में कारण बताओ नोटिस जारी किया। ब्रोकर ने इस मामले में अपना नाम, लाइसेंस नंबर और अन्य जानकारी रेगुलेटर को सबमिट की। इसने कहा कि उसकी वेबसाइट का डोमेन नाम 2014 का है। 
रेगुलेटर कंपनी के जवाबों से संतुष्ट नहीं हुआ और उसने पाया कि इंश्योरेंस ब्रोकिंग कंपनी बिना किसी स्पष्ट डिस्प्ले के वेबसाइट को चला रहा है। वेबसाइट पर उसका नाम नहीं दिख रहा है। साथ ही बीमा ब्रोकर रेगुलेटर के सवालों का सही जवाब नहीं दे पाया। रेगुलेटर ने कहा कि वेबसाइट में जो हमारे बारे में सेक्शन में दिख रहा है, वह होम पेज पर नहीं दिख रहा है।  

IRDAI ने इसी आधार पर 29 जून को आदेश जारी किया। इसमें 1 करोड़ रुपए के जुर्माना के साथ चेतावनी भी दे डाली। रेगुलेटर ने आदेश में कहा कि ब्रोकर के एजेंट प्रमोटर कंपनी में कारोबार नहीं कर सकते हैं। साथ ही ब्रोकर कई सारे लोगों और कंपनियों के साथ बीमा का बिजनेस कर रहा था। ऐसे लोगों के पास बीमा बेचने का लाइसेंस भी नहीं था।  

रेगुलेटर ने कहा कि सभी बीमा ब्रोकर्स को यह सुनिश्चित करना होगा कि वे एजेंट को न रखें। साथ ही उसने उन दो लोगों को भी चेतावनी दी जो इंश्योरेंस बिजनेस कर रहे थे। हालांकि ब्रोकिंग कंपनी को रेगुलेटर के खिलाफ अपीलेट बॉडी में अपील करने की भी छूट दी गई है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *