सैपिएंट बनी देश की सबसे बड़ी म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी, 7,800 करोड़ का AUM

मुंबई– DSP म्यूचुअल फंड के फिक्स्ड इनकम हेड सौरभ भाटिया ने म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूशन में कदम रखा है। उन्होंने सैपिएंट वेल्थ को मैक्रो स्ट्रेटेजी और फिक्स्ड इनकम हेड के रूप में ज्वाइन किया है। 12 साल पहले शुरू इस म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूशन प्लेटफॉर्म की 27 हजार ग्राहकों तक पहुंच है। साथ ही इसका 7,800 करोड़ रुपए का असेट अंडर मैनेजमेंट यानी AUM रहा है। यह देश की सबसे बड़ी म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी है।  

AUM यानी निवेशकों के पैसे को मैनेज करने से होता है। सैपिएंट की शुरुआत 2009 में जनक शाह ने 5 लोगों के साथ की थी। उनके साथ अमित बिवालकर और राहुल खांडेकर भी थे। पहले दस सालों की आर्गेनिक ग्रोथ के बाद सैपिएंट ने साल 2019 में फंड इंडस्ट्री से अन्य लोगों को भी जोड़ने की शुरुआत की है। इसमें मुंबई से परेश कारिया, गुवाहाटी से पालव बगारिया शामिल थे। 2020 में ध्रुव मेहता और रूपा वेंकटकृष्णन ने सैपिएंट में ज्वाइन किया।  

कंपनी के MD एवं CEO अमित बिवालकर कहते हैं कि उन्होंने केवल 5 लोगों के साथ इसकी शुरुआत की थी। अब उनके पास 100 कर्मचारियों की संख्या है और 11 ऑफिसेस हैं। यह देश की सबसे बड़ी म्यूचुअल फंड डिस्ट्रीब्यूटर्स कंपनी है। वे कहते हैं कि इसमें सौरभ भाटिया का काफी बड़ा योगदान है। जिससे यह प्लेटफॉर्म आज एडवाइजरी और डिस्ट्रीब्यूशन चैनल के रूप में फेमस है।  

दरअसल देश में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री में काफी कम एडवाइजर हैं। कुल एक्टिव एडवाइजर्स महज 30 हजार के पास हैं। जबकि 130 करोड़ की आबादी में यह काफी कम संख्या है। सैपिएंट के चेयरमैन ध्रुव मेहता कहते हैं कि हम आगे इस प्लेटफॉर्म को और मजबूत बनाना चाहते हैं। क्योंकि आज देश में फंड डिस्ट्रीब्यूशन की जरूरत है।  

सौरभ भाटिया HSBC म्यूचुअल फंड में थे और उसके बाद वे 2017 में DSP म्यूचुअल फंड में जुड़े। वे फिक्स्ड इनकम के फंड मैनेजर थे। सैपिएंट आगे और भी टेक्नोलॉजी आधारित सेवाओं को लांच करने की तैयारी में है। देश में कुल 43 फंड हाउस हैं। इनका कुल असेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) 31 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा है। इसमें से तीन सबसे बड़े फंड हाउस में एसबीआई म्यूचुअल फंड, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल और एचडीएफसी फंड है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *