बिटकॉइन में जोखिम की आहट, टॉप से कीमतों में 50% की आई गिरावट

मुंबई– बिटकॉइन की हालिया उछाल ने अभी तक अपनी असुरक्षा के बारे में संदेह दूर नहीं किया है। इसकी टॉप प्राइस से अब तक 50% की गिरावट आ चुकी है। हालांकि दो दिनों में इसमें 10% का उछाल भी आया है। इससे इसमें जोखिम की आहट दिख रही है।  

सोमवार को बिटकॉइन की कीमतों में 10% की तेज गिरावट दिखी थी। इस साल में इसका रिटर्न देखें तो कोई खास नहीं रहा है। यह करीब न के बराबर रहा है। सोमवार की इसकी कीमत 31,947 डॉलर रही थी और मार्केट कैप 598 अरब डॉलर रहा था। आज सुबह 9 बजे यह 36,993 डॉलर पर कारोबार कर रह थी।  

हालांकि इस उछाल से बुल मार्केट खुश हो सकता है। जेपी मॉर्गन चेस एंड कंपनी ने निवेशकों से सावधान रहने को कहा है। जेपी मॉर्गन के रणनीतिकारों ने कहा कि हमारा मानना है कि हाल के सप्ताह में जिस तरह के घटनाक्रम देखे गए हैं उससे मंदी वाले मार्केट की आहट दिख रही है। उन्होंने कहा कि बिटकॉइन की गिर रही कीमतें किसी चिंता में डाल देने वाले ट्रेंड की ओर इशारा कर रही हैं।  

ट्रेडर्स कुछ ऐसे तेज अवसर का इंतजार कर रहे हैं जिसमें बिटकॉइन की कीमत 30,000 से 40,000 डॉलर के रेंज तक पहुंच जाए। अप्रैल में यह लगभग 65,000 डॉलर पर थी और तब से इसमें गिरावट आ रही है। कुछ दिनों पहले टेस्ला के एलन मस्क ने डिजिटल कर्रेंसी की जरूरतों को लेकर इसकी आलोचना की थी। एक चीनी रेगुलेटर ने भी इसे लेकर कुछ कार्रवाई की थी, जिससे इसकी लोकप्रियता में बाधा पहुँची है। हालांकि अल साल्वाडोर द्वारा बिटकॉइन को लीगल टेंडर घोषित किए जाने के बाद इसमें थोड़ी से तेजी आई। अल साल्वाडोर पहला देश है, जिसने बिटकॉइन को लीगल करार दिया है। 

पेपरस्टोन फाइनेंशियल पीतीवाई ले हेड क्रिस वेस्टन ने गुरुवार को अपने रिसर्च नोट में लिखा कि अपनी साख बहाल करने के लिए वर्चुअल करेंसी को 39,460 डॉलर तक जाना चाहिए और अपने टॉप के आस-पास रहना चाहिए। लेकिन हम इस तेजी को परखने के लिए एक ब्रेक लेना चाहेंगे ताकि यह महसूस किया जा सके कि हम कमजोरी के दौर से बाहर निकल चुके हैं।  

इस बीच, ट्रैकर कॉइनजेको के आंकड़ों के अनुसार, ओवरआल क्रिप्टो मार्केट वैल्यू का बिटकॉइन का हिस्सा वर्तमान में 42% है। इस साल की शुरुआत के वैल्यू से यह करीबन 70% कम है। जेपी मॉर्गन के रणनीतिकारों ने कहा कि मौजूदा मंदी के मार्केट पर बहस पर लगाम लगाने के लिए बिटकॉइन के शेयर को 50% टॉप तक ऊपर जाने की जरूरत हो सकती है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *