एसबीआई के शेयर में मिल सकता है सेंसेक्स से दोगुना रिटर्न, 18 पर्सेंट की उम्मीद

मुंबई– देश के सबसे बड़े बैंक SBI को लेकर जबरदस्त तेजी दिख रही है। इस स्टॉक को कवर करने वाले 48 एनालिस्ट्स में 47 ने इसे खरीदने की सलाह दी है। 12 महीने के लिए इसके शेयर में 18 पर्सेंट की तेजी का लक्ष्य रखा गया है। यह लक्ष्य एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स इंडेक्स बेंचमार्क पर लगभग दोगुना है।  

इस लक्ष्य का मतलब हुआ कि अगले एक साल में सेंसेक्स की तुलना में एसबीआई से दोगुना रिटर्न मिलेगा। इसे ऐसे समझ सकते हैं कि अगले एक साल में सेंसेक्स 9 फीसदी की दर से बढ़ेगा जबकि एसबीआई में 18 फीसदी का गेन हो सकता है। अनुमान है कि देश के प्रमुख बैंक प्रावधान (प्रोविजनिंग) और नई मानकों की बदौलत धीमी अर्थव्यवस्था की चुनौतियों से निपटेंगे और इससे उन्हें 2022 तक अपने बैड लोन्स के वास्तविक आंकड़े छिपाने में मदद मिलेगी। इससे सेक्टर का इक्विटी मार्केट में परफॉर्मेंस बेहतर होगा। 

देश के लोन मार्केट में लगभग 1/5 हिस्सा एसबीआई के पास है। इसे जनवरी-मार्च 2021 तिमाही में अनुमान के विपरीत रिकॉर्ड प्रॉफिट हुआ था। बैड लोन्स में कम प्रोविजनिंग के चलते बैंक के मुनाफे में बढ़ोतरी हुई थी। इसके ग्रॉस नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स (एनपीए) में भी गिरावट आई।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के रिसर्च हेड गौतम दुग्गाड के मुताबिक एसबीआई की कमाई आगे बढ़ेगी क्योंकि बैलेंसशीट अब बेहतर है और जो सफाई की जानी थी, वह काफी हद तक पूरी हो चुकी है। गौतम दुग्गाड के मुताबिक एसबीआई की रिटेल एसेट क्वालिटी बैंकिंग सेक्टर के अन्य बैंकों के मुकाबले कम स्लिपेज के चलते बेहतर है।

ब्लूमबर्ग की इंटेलीजेंस एनालिस्ट दिक्षा गेरा के एक नोट के मुताबिक वित्त वर्ष 2022 में बेहतर एसेट क्वालिटी के चलते इक्विटी पर रिटर्न चार पर्सेंट तक बढ़कर 12 पर्सेंट से अधिक हो सकता है। बैंक ने कोरोना के कारण अनिश्चितता के चलते स्लिपेज रेशियो को लेकर कोई गाइडेंस नहीं दिए हैं। इसके कारण मार्च में बैड लोन क्लासिफिकेशन से रिस्ट्रिक्शंस हटाए जाने के बाद बैंक की एसेट क्लालिटी पर दबाव बना रहेगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *