मलाला यूसुफजई ने कहा, शादी की बजाय पार्टनर रखें जीवन में, पाक में बवाल

मुंबई– ब्रिटेन की मशहूर मैगजीन वोग (Vogue) को दिए गए नोबेल पुरस्कार से सम्मानित मलाला यूसुफजई के इंटरव्यू पर पाकिस्तान में बवाल खड़ा हो गया है। दरअसर, इंटरव्यू में मलाला ने शादी की रस्मों से असहमत जताई। उन्होंने कहा कि मुझे अब तक यह बात समझ नहीं आई कि लोग आखिर शादी करते क्यों हैं? अगर आपको हमसफर या जीवनसाथी चाहिए तो उसके लिए कागजों पर सिग्नेचर की क्या जरूरत है? यह पार्टनरशिप क्यों नहीं हो सकती? 

मलाला की यह बात पाकिस्तान पहुंची और बवाल-सवाल उठ खड़े हुए। उन्होंने रोमांस और पार्टनर को लेकर भी कुछ बातें कीं। न्यूज चैनलों पर लानत-मलानत होने लगी। 90% को उनकी बातें और तर्क हजम नहीं हुए। इनमें माथिरा खान जैसी एक्ट्रेस भी थीं। फिलहाल मलाला ब्रिटेन के बर्मिंघम में रहती हैं और अब ऑक्सफोर्ड ग्रेजुएट हैं। 

तारीख- 9 अक्टूबर 2012, जगह- मिंगोरा (स्वात घाटी, पाकिस्तान), वक्त- दोपहर करीब 1 बजे। तालिबान के हथियारबंद आतंकी लड़कियों की एक स्कूल बस को रोकते हैं, जबरन उसमें घुसते हैं। बस एक ही सवाल- मलाला कौन है? जुबान से कोई कुछ नहीं बोलता, लेकिन सहमी हुई लड़कियों की नजरें इस नाम वाली लड़की की तरफ घूम जाती हैं। एक बंदूक से गोलियां निकलती हैं। एक गोली उस मासूम लड़की के चेहरे पर लगती है। उसे पेशावर के आर्मी हॉस्पिटल ले जाया जाता है। उम्मीद कम थी, इसलिए एयर एम्बुलेंस से लंदन भेज दिया जाता है। 

आज ये लड़की महिलाओं, बच्चों के हर हक और हकूक की आवाज है। नोबेल पुरस्कार से सम्मानित मलाला यूसुफजई। 12 जुलाई को मलाला 24 साल की हो जाएंगी। पाकिस्तान का एक लिबरल तबका इस दिन को ‘मलाला डे’ के तौर पर मनाने की मांग कर रहा था, लेकिन फिर कुछ ऐसा हुआ कि मलाला मजहबी कट्टरपंथियों और मुल्क की आम-अवाम की आंखों में खटकने लगीं। यहां हम जानने और समझने की कोशिश करते हैं कि आखिर दुनिया जिस मलाला से प्यार करती है, वो अपने ही मुल्क में परायी क्यों होती गई? 

टीवी एंकर फिजा खान ने पिछले दिनों अपने शो में कहा- मलाला बदल चुकी हैं। एक वक्त उन्होंने लड़कियों की शिक्षा पर फोकस किया। नाईजीरिया के आतंकी संगठन बोको हरम ने स्कूल से 150 लड़कियों को अगवा किया तो उसका विरोध किया। बराक और मिशेल ओबामा समेत कई हस्तियों से मिलती रहीं। बहुत इज्जत और शोहरत कमाई, लेकिन आज वो जो कर रही हैं, उसे स्वीकार नहीं किया जा सकता। स्वात प्रेस क्लब के जर्नलिस्ट शहजाद आलम कहते हैं- जब वो यहां थी तो हम उसे बहुत प्यार करते थे। इंग्लैंड जाकर बदल गई। अब लोग उससे नफरत करते हैं। 

मलाला मानती हैं कि शादी को लेकर उनके विचारों से उनकी मां भी इत्तेफाक नहीं रखतीं। पिता के पास तो पाकिस्तान से ढेरों ई-मेल आते हैं, इनमें मलाला से शादी की चाहत रखने वाले बताते हैं कि उनके कितनी धन-दौलत है। वैसे मलाला के बयान पर उनके पिता को सफाई भी देनी पड़ी है। 

मलाला का दिन वीडियो गेम और गार्डनिंग में बीतता है। 15 साल की उम्र में ही उन्होंने ‘मलाला फंड’ शुरू कर दिया था। आज बर्मिंघम की पॉश लोकेशन में उनके पास शानदार बंगला है, गाड़ी और तमाम सुविधाएं भी। 17 साल की उम्र में नोबेल हासिल करने वाली इस लड़की के पास पैसे की कोई कमी नहीं। अब ब्रिटिश लहजे में अंग्रेजी बोलती हैं। इस साल वो परिवार के साथ वर्ल्ड टूर पर जाने वाली थीं, लेकिन महामारी ने सब चौपट कर दिया। 

रिलेशनशिप पर भी वो खुलकर बोलती हैं। वोग मैगजीन से उन्होंने कहा- मैं कई लोगों से मिलती हूं। उनमें से कुछ बहुत अच्छे हैं। उम्मीद करती हूं कि मुझे भी कोई ऐसा मिलेगा जो मुझे समझे और खूब प्यार करे। जब उनसे पूछा गया कि सबसे ज्यादा कौन पसंद है। तो मलाला का जवाब था- ब्रैड पिट। फिर दोनों हाथों से चेहरा छिपा लेती हैं। 

ऐसा नहीं है कि मलाला की बातों या बयानों से सिर्फ पाकिस्तानी ही खफा होते रहे हैं। नोबेल पुरस्कार हासिल करने के ठीक अगले दिन उन्होंने कश्मीर पर कहा था- वहां के लोग और खासकर बच्चे घर से निकलने में डरते हैं। बच्चे स्कूल नहीं जा पाते। भारत में इसका काफी विरोध हुआ। 

फरवरी 2017 में फॉरेन पॉलिसी मैगजीन ने मलाला को लेकर पाकिस्तानी लोगों से बातचीत की थी। एक यूनिवर्सिटी प्रोफेसर का कहना था- मलाला में कुछ स्पेशल नहीं है। पाकिस्तान में लाखों बच्चों ने मलाला से ज्यादा गंभीर हमले झेले। क्या मलाला ने पाकिस्तान में अमेरिकी ड्रोन हमलों के खिलाफ आवाज उठाई? अगर मलाला को इस मुल्क की फिक्र है तो वो यहां वापस क्यों नहीं आतीं? मलाला पर तालिबान का हमला सिर्फ नाटक और रचा-रचाया ड्रामा था। 2014 के Pew सर्वे में मलाला के समर्थकों की संख्या महज 30% थी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *