पेटीएम का 22 हजार करोड़ का आईपीओ, LIC से पहले आया तो सबसे बडा IPO होगा

मुंबई– देश की लीडिंग डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम इस साल में IPO लाने की योजना बना रही है। कंपनी इसके जरिए 21 हजार 900 करोड़ रुपए जुटा सकती है। अगर यह LIC से पहले IPO लाती है तो देश का सबसे बड़ा IPO यह होगा।  

अभी तक देश का सबसे बड़ा IPO कोल इंडिया के नाम रहा है। इसने साल 2010 में 15,200 करोड़ रुपए जुटाया था। उसके बाद से कोई भी कंपनी इस तरह का बड़ा IPO नहीं लाई है। हालांकि उसके पहले रिलायंस पावर ने 11 हजार करोड़ रुपए का, डीएलएफ ने 9 हजार करोड़ रुपए का, पिछले साल SBI पेमेंट एंड कार्ड ने 10 हजार करोड़ रुपए का IPO लाया था।  

जानकारी के मुताबिक, पेटीएम में जो निवेशक हैं उसमें बार्कशायर हैथवे, सॉफ्टबैंक ग्रुप और एंट ग्रुप हैं। यह सभी बड़े निवेशक हैं। बार्कशायर दुनिया में शेयर बाजार के सबसे बड़े निवेशक वॉरेन बफे की कंपनी है जबकि सॉफ्टबैंक जापान की है और एंट ग्रुप चीन के अलीबाबा ग्रुप की कंपनी है। यह सभी पेटीएम को इस साल नवंबर तक लिस्ट कराने की योजना बना रहे हैं। माना जा रहा है कि दिवाली में इस कंपनी को शेयर बाजार में लाया जा सकता है।  

पेटीएम दरअसल वन97कम्युनिकेशन के तहत है। इसका वैल्यूएशन करीबन 2 से 2.20 लाख करोड़ रुपए है। वन97 कम्युनिकेशन बोर्ड इस मामले में शुक्रवार यानी कल मिलने की योजना बना रहा है और इसी मीटिंग में IPO को मंजूरी मिल सकती है। पेटीएम के IPO के लिए जिन बैंकर्स को चुना जाएगा उसमें मोर्गन स्टेनली, सिटीग्रुप, जेपी मोर्गन हैं। मोर्गन स्टेनली इसमें सबसे आगे है। इस IPO का प्रोसेस जून या जुलाई में शुरू हो सकता है।  

IPO में पहले के और नए शेयर दोनों को जारी किया जाएगा। ऐसा इसलिए क्योंकि IPO लाने वाली कंपनी को पहले दो सालों में 10% हिस्सा पब्लिक को देना होता है, जबकि अगले पांच सालों में इसे बढ़ाकर 25% करना होता है। यानी प्रमोटर के पास ज्यादा से ज्यादा 75% हिस्सा रहना चाहिए। हालांकि यह नियम पहले 3 साल का था, पर सेबी ने इसी साल इसे बढ़ाकर 5 साल कर दिया है। ऐसा देश के अब तक के सबसे बड़े IPO एलआईसी के IPO से पहले यह किया गया है।  

पेटीएम के संस्थापक में विजय शेखर शर्मा पिछले कुछ सालों से रेवेन्यू को बढ़ाने पर फोकस कर रहे हैं। यह कंपनी डिजिटल से आगे बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड, फाइनेंशियल सर्विसेस, वेल्थ मैनेजमेंट और डिजिटल वॉलेट की सेवाएं देती है। यह यूपीआई आधारित पेमेंट सेवा देती है। पेटीएम का मुकाबला वालमार्ट की फोन पे, गूगल पे, अमेजन पे और फेसबुक के वॉट्सऐप पे के साथ है। यह भारत के मर्चेट पेमेंट के मामले में सबसे ज्यादा हिस्सेदारी रखती है। पेटीएम के पास 2 करोड़ से ज्यादा मर्चेंट पार्टनर्स हैं। इसके ग्राहक महीने में 1.4 अरब ट्रांजेक्शन करते हैं।   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *