अप्रैल में 9 कंपनियों ने IPO के लिए फाइल किया मसौदा, इस साल में कुल 30 कंपनियों ने दिखाई दिलचस्पी

मुंबई– कोरोना भले अपनी दूसरी लहर में तेजी पर हो, पर IPO से पैसा जुटाने के लिए कंपनियां लगातार तैयारी कर रही हैं। इस कैलेंडर साल यानी जनवरी से अब तक कुल 30 कंपनियों ने IPO के लिए शुरुआती मसौदा यानी DRHP (ड्राफ्ट रेड हियरिंग प्रोसपेक्टस) सेबी के पास जमा कराया है। इसमें सबसे ज्यादा अप्रैल महीने में कंपनियों ने दिलचस्पी दिखाई है।  

सेबी के आंकड़ों के मुताबिक, जनवरी में 2 कंपनियों ने IPO के लिए DRHP फाइल किया था। इसके बाद फरवरी में 11 कंपनियों ने मसौदा जमा कराया। मार्च में 6 कंपनियों और अप्रैल में कुल 9 कंपनियों ने कागजात जमा कराया।  

जनवरी में आधार हाउसिंग फाइनेंस और नजारा टेक ने DRHP फाइल किया। लेकिन फरवरी से DRHP फाइल करने की रफ्तार अचानक बढ़ गई। फरवरी में प्रमुख रूप से सूर्योदय स्मॉल फाइनेंस बैंक और लोढ़ा डेवलपर्स ने कागजात जमा कराया। फाइनेंशियल वर्ष के अंतिम महीने यानी मार्च में 6 कंपनियों में उत्कर्ष स्मॉल फाइनेंस, पारस डिफेंस में जमा कराया। अप्रैल की बात करें तो कुल 9 कंपनियों ने IPO के लिए डॉक्यूमेंट जमा कराया। इसमें प्रमुख रूप से जोमैटो, आदित्य बिरला म्यूचुअल फंड, ग्लेनमार्क लाइफ साइंसेस आदि रही हैं। मई में अभी तक के पहले हफ्ते में केमप्लास्ट और नुवोको विस्टास ने मसौदा जमा कराया है। 

इसमें बड़े IPO में जोमैटो 8,250 करोड़ रुपए जुटाने के लिए उतरेगी जबकि बिरला म्यूचुअल फंड 6000 करोड़ रुपए जुटा सकती है। हालांकि जनवरी से मार्च तक जिन कंपनियों ने कागजात जमा कराया था, उसमें से काफी IPO आ भी चुके हैं। इसमें लोढ़ा डेवलपर्स, उत्कर्ष स्माल फाइनेंस आदि हैं।  

अगर जनवरी 2020 से मई 2020 की तुलना करें तो उस समय के पांच महीनों में केवल 10 कंपनियों ने ही IPO के लिए कागजात जमा कराया था। जबकि इस साल कुल 30 कंपनियों ने फाइल जमा कराया है। कोरोना के कारण मार्च 2020 में नेशनल लॉकडाउन शुरू होने के बाद से अप्रैल में एक भी कंपनियों ने IPO के लिए कागजात नहीं जमा कराया था जबकि मई में केवल 1 कंपनी ने कागजात जमा कराया था। 10 कंपनियों में से 5 कंपनियों ने तो जनवरी में ही कागजात जमा कराया था। फरवरी में 3 कंपनियों ने IPO में दिलचस्पी दिखाई थी।  

वैसे यह पूरा साल IPO के नाम रहने वाला है। बड़ी-बड़ी कंपनियां IPO लेकर आ रही हैं। कुल 2 लाख करोड़ रुपए IPO से जुटने की उम्मीद है। विश्लेषकों का मानना है कि बाजार तेजी में है और विदेशी निवेशक लगातार पैसे लगा रहे हैं। साथ ही कॉर्पोरेट के रिजल्ट बेहतर हैं। कोरोना की वैक्सीन आने से भी अर्थव्यवस्था में तेजी के आसार हैं। जनवरी और फरवरी में 8 कंपनियों ने 12,720 करोड़ रुपए IPO से जुटा ली हैं।  

पूरे साल की बात करें तो 2020 अप्रैल से मार्च 2021 के बीच 55 IPO आए थे। इन्होंनें 31 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम जुटाई थी। 2019-20 में कुल 60 IPO जरूर आए पर पैसे कम जुटाए। इन्होंने 21,345 करोड़ रुपए जुटाए थे।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *